बिलासपुर।हवाई सुविधा जनसंघर्ष समिति 23 जनवरी को धरना स्थल पर एक सद्बुद्धि यज्ञ करेगी। इस यज्ञ के माध्यम से केंद्र सरकार की संस्था एएआइ (एयरपोर्ट अर्थारिटी आफ इंडिया) के लिए सद्बुद्धि की प्रार्थना की जाएगी। दरअसल एएआइ द्वारा लगातार बिलासपुर में हवाई सुविधा के विकास कार्य ढीलढाल रवैया अपना रही है। जिसे लेकर समिति के पदाधिकारी व सदस्यों में नाराजगी है।

चकरभाठा स्थित बिलासा एयरपोर्ट को पूर्व विकसित करने के लिए समिति द्वारा पिछले कई दिनों से धरना दिया जा रहा है। शनिवार को भी यह महाधरना जारी रहा। महापौर रामशरण यादव भी इसमें शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने नाइट लैंडिंग रिपोर्ट प्रस्तुत करने में की जा रही अनावश्यक देरी पर चिंता व्यक्त की। धरनास्थल पर मौजूद सामाजिक कार्यकर्ता गजेंद्र श्रीवास्तव ने कहा अंत में आत्मदाह जैसा कदम उठाया जाएगा।

हालांकि समिति के सदस्यों ने उनसे कहा कि इसकी आवश्यकता नहीं पड़ेगी। वे धैर्य रखें। समझाइश देने पर श्रीवास्तव इस बात के लिए मान गए। लेकिन उन्होंने कहा कि यदि बिलासपुर एयरपोर्ट के पूर्ण विकास के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार आवश्यक कदम नहीं उठाएगी तो वे पुन: फैसले पर विचार कर सकते हैं। इस दौरान केशव गोरख और प्रदीप राही का कहना था कि बिलासपुर की जनता लगातार भेदभाव का शिकार हो रही है। फोर सी एयरपोर्ट और महानगरों तक सीधी उड़ान हमें नहीं दी गई तो आंदोलन और भी तेज किया जाएगा।

युवा नेता गोपाल दुबे और आदिवसी नेता संत कुमार नेताम ने कहा कि अन्याय और भेदभाव सहने की एक हद होती है। बरसों पहले जो हवाई सुविधा हमें मिल जानी चाहिए थी हम उससे आज तक वंचित हंै। सभा में बोलते हुए चित्रकांत श्रीवास और महेश दुबे ने केंद्र सरकार के लिए विशेष रूप से आग्रह किया है कि वह सक्रिय भूमिका निभाएं। आज के धरने में प्रमुख रूप से देवेंद्र सिंह ठाकुर, सीएल मीणा, समीर अहमद, दीपक कश्यप, मनोज श्रीवास, बद्री यादव, अकिल अली, गुलशन, दिनेश निर्मलकर, संतोष पीपलवा, मोहन जायसवाल आदि उपस्थित थे।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local