बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

न्यायालय ने रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर बेरोजगारों से ठगी करने के दो आरोपितों के जमानत आवेदन को खारिज कर दिया है।

तोरवा पुलिस को सात अगस्त को रेलवे स्टेशन पास स्थित साई अमृत होटल के कमरा नंबर 305 में छापा मारा था। वहां बेरोजगारों का सम्मेलन आयोजित कर रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर फार्म भरवा कर रुपये लिए जा रहे थे। प्रार्थी ने तोरवा थाने में रिपोर्ट लिखाई कि उसने अपने भाई मोहम्मद इसरार की नौकरी लगाने कमरे में उपस्थित बहादुर नाम के व्यक्ति को 37 हजार रुपये दिए हैं। अन्य युवकों ने भी नौकरी दिलाने के नाम पर रकम लेने की बात कही। तोरवा पुलिस ने धारा 420, 34 के तहत अपराध पंजीबद्घ कर महासमुंद जिले के बिरीक लाल साहू व भेखन चंद्राकर को गिरफ्तार कर जेल दाखिल किया है। जेल में बंद दोनों आरोपितों ने जिला एवं सत्र न्यायालय में जमानत आवेदन पेश किया। न्यायालय ने केस डायरी का अवलोकन करने के उपरांत आवेदन को खारिज कर दिया है।