विकास पांडेय

बिलासपुर। Bilaspur News: आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की ओर से टायकाथान-2021 का आयोजन किया जा रहा है। प्रतियोगिता में कालेज के छात्र-छात्राओं के लिए भी अपने अनोखे व नए आइडिया साझा करने का अवसर दिया जा रहा है।

इसमें उन्हें बच्चों के लिए स्वदेशी खिलौने बनाने के लिए नवाचारी विचार साझा करना होगा। स्पर्धा में प्रस्तुत किए गए विचार अगर चुन लिए गए, तो विजेता प्रतिभागी 50 लाख तक के पुरस्कार जीत सकते हैं।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग एवं शिक्षा मंत्रालय की ओर से खिलौना क्षेत्र में देश को आत्म निर्भर बनाने की दिशा में योगदान देने युवाओं को अवसर दिया जा रहा है। इसमें युवाओं को अपने नवाचारी विचारों को साझा कर पुरस्कार जीतने का मौका तो मिलेगा ही, विदेशों से हो रही आपूर्ति की बजाय स्वदेशी खिलौनों को बाजार में जगह बनाने में मदद मिलेगी।

इस क्षेत्र में कार्य कर रहे उद्योगों को भी बढ़ावा मिलेगा और उसमें रोजगार के भी अवसर बढ़ेंगे। छात्र-छात्राओं को अपने विचार प्रस्तुत करने 20 जनवरी तक का समय दिया गया है। इसके लिए उन्हें निर्धारित प्रारुप में जानकारी भरकर वेब पटल (टायकेथानडाटएमआइसीडाटजीओवीडाटइन) पर जमा करना होगा। प्रतियोगिता के विजयी छात्रों को व्यक्तिगत या समूह में 50 लाख तक की पुरस्कार राशि प्रदान की जाएगी।

सीबीएसई छात्रों के लिए भी अवसर

सीबीएसई की ओर से भी पहली बार रचनात्मक प्रयास करने छात्रों को यह अवसर प्रदान किया है। बोर्ड की ओर से छात्रों व शिक्षकों के लिए टायकाथान-2021 प्रतियोगिता के माध्यम से नेशनल टाय फेयर में प्रतिभाग करने का मौका दिया है। उत्कृष्ट प्रदर्शन पर जीतने वाले को 50 लाख रुपये तक पुरस्कार भी मिलेंगे।

इस टायकाथान में आठवीं से 12वीं तक के छात्र हिस्सा ले सकेंगे। सभी छात्रों को टीम के रूप में प्रतिभाग करना होगा। इस संबंध में जानकारी प्राप्त करने के लिए छात्र सीबीएसई एकेडमिक डाट एनआइसी डाट इन पर क्लिक कर सकते हैं।

इन विषयों पर दे सकेंगे अपने सुझाव

छात्रों को बोर्ड की ओर से दी गई थीम पर खिलौने के आइडिया प्रस्तुत करना होगा। बोर्ड से जारी सर्कुलर के अनुसार भाग लेने वाले विद्यार्थी वैदिक गणित, शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ कैसे रहें, दिव्यांगजनों के मददगार खिलौने, गणित, विज्ञान समेत अन्य भाषाओं की जानकारी वाले खिलौने, स्वच्छ भारत, पर्यावरण संरक्षण व बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश देने वाले खिलौनों के संबंध में अपने आइडिया साझा कर सकते हैं। शिक्षा मंत्रालय की नवाचार सेल व अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के सहयोग से यह कार्यक्रम किया जा रहा।

भारतीय सभ्यता, इतिहास, संस्कृति पर गेम

स्पर्धा का उद्देश्य राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देना व सांस्कृतिक विविधता का सम्मान करना है। प्रतिभागियों को अपनी सोच से नए खिलौने व गेम कांसेप्ट तैयार करना होगा। ऐसे गेम्स बताने होंगे, जो भारतीय सभ्यता, इतिहास, संस्कृति, पौराणिक कथाओं पर आधारित हो।

इसमें छात्र, अध्यापक, स्टार्ट अप, खिलौने से संबंधित विशेषज्ञ भाग ले सकते हैं। जीतने वाले प्रतिभागियों को अपना कांसेप्ट राष्ट्रीय टाय फेयर में दिखाने का भी मौका मिलेगा। प्रस्तुत विचारों का 21 जनवरी से आठ फरवरी तक मूल्यांकन होगा। शार्टलिस्ट आइडिया की घोषणा 12 फरवरी को होगी।

Posted By: sandeep.yadav

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस