बिलासपुर। Guru Ghasidas Central University News: गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय के नए कुलपति प्रोफेसर डा. आलोक चक्रवाल ने शनिवार को पदभार ग्रहण करते हुए नईदुनिया से खास बातचीत की। उन्होंने कहा कि मैं एक शिक्षक हूं, समाज को मुझसे अनंत अपेक्षाएं है। राष्ट्रहित में हम सभी को मिलजुलकर आगे बढ़ना होगा। युवा पीढ़ी को नई दिशा देते हुए उनका बेहतर भविष्य निर्माण ही प्रथम लक्ष्य है। नईदुनिया द्वारा पूछे गए सवालों का उन्होंने खुलकर जवाब दिया।

सवाल 01- नए कुलपति के रूप में अगले पांच वर्ष तक कौन सा प्रमुख लक्ष्य लेकर चलेंगे।

जवाब- नई शिक्षा नीति का बेहतर क्रियान्वयन, शिक्षा को उद्योग से जोड़ना, शोध-नवाचार की दिशा में तेजी से काम, नैक व एनआइआरएफ रैकिंग में बढ़त बनाना और युवाओं को आत्मनिर्भर बनाना सर्वोपरि लक्ष्य है।

सवाल 02- बिलासपुर में उच्च शिक्षा के स्तर को बढ़ाने कोई योजना आपके पास है क्या?

जवाब- हां बिल्कुल। मैं सबसे पहले यहां के सभी कुलपतियों का वंदन करता हूं। राज्य विश्वविद्यालय के कुलपतियों के साथ सामंजस बिठाकर एक ब्लू प्रिंट तैयार कर सकेंगे। यहां आने से पूर्व मैंने शिक्षाजगत को लेकर जानकारी हासिल की है।

सवाल- 03 थ्री एमपी एक्सीलरेट बंद है। शोध को कैसे आगे बढ़ाएंगे।

जवाब- निश्चित रूप से मुझे इसकी जानकारी हुई है। मैं विश्वास दिलाना चाहता हूं कि मेरे कार्यकाल में यह मशीन चालू होगी। मैंने इस पर काम शुरू भी कर दिया है। इसके अलावा सभी विभागों में शोध को बढ़ावा दिया जाएगा। अंतराष्ट्रीय स्तर के लैबोरेटरी बनाएंगे।

सवाल-04 प्रशासन में बैठे अधिकारी कुलपति तक संवाद नहीं बनने देते, आप क्या करेंगे।

जवाब- संवाद को लेकर मैंने सबकुछ पता कर लिया है। मेरे कार्यकाल में ऐसा नहीं होेने दूंगा। विद्यार्थियों, शिक्षकों, कर्मचारियों और अभिभावकों की समस्याएं सुनी जाएंगी और त्वरित हल करना लक्ष्य होगा।

सवाल-05 300 कर्मचारी मेन गेट पर एक महीने से हड़ताल कर रहे हैं। क्या होगा?

जवाब- श्रमिक हमारे हैं। उनकी बात जरूर सुनी जाएगी। संबंधित अधिकारियों को आज ही ब्योरा देने को कहा है। नियमानुसार उनकी समस्या को हल किया जाएगा। मेरा प्रयास होगा कि उनका आंदोलन जल्दी खत्म हो जाए।

सवाल-06 केंद्रीय संस्थान होने के बाद भी पूरा सिस्टम एक लाबी नियंत्रण करता है?

जवाब- प्रशासन में कसावट के साथ ऐसे अधिकारियों की जानकारी मुझे हैं। निश्चिंत रहे। विश्वविद्यालय को आगे ले जाने में चापलूसों की नहीं, काम करने वालों को मौका दिया जाएगा। सम्मान भी करेंगे।

सवाल-07 नियुक्ति और निर्माण में बड़े पैमाने में भष्टाचार का आरोप है?

जवाब- किसी भी प्रकार का काम हो। सत्यता की जांच करेंगे। शिक्षा के मंदिर में यदि इस तरह की कोई मामला सामने आता है तो उसका परीक्षण किया जाएगा। फिर आगे की कार्रवाई पूरी करेंगे।

सवाल-08 केंद्रीय विवि में काम ठप हंै। सुविधाएं कुछ भी नहीं हैं।

जवाब- पारदर्शी तरीके से काम होगा। एक-एक चीज का हिसाब किया जाएगा। विश्वविद्यालय में यदि सुविधाएं ना मिले तो फायदा क्या। संस्था से जुड़े सभी के लिए समुचित व्यवस्था करेंगे। समस्याओं का निपटारा करने सेल बनाया जाएगा।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local