बिलासपुर। कोनी में 200 करोड़ की लागत से मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल के लिए बन रहे 11 मंजिला भवन का निर्माण तो सीपीडब्ल्यूडी ने 30 अप्रैल तक कर लिया। लेकिन, अब उन्हें मशीन स्थापित करने कक्ष निर्माण में दिक्कत हो रही है। अभी तक बिजली कनेक्शन नहीं मिला है। ऐसे में फिटिंग काम नहीं हो सका है। इन बातों को ध्यान में रखकर केंद्रीय पीडब्ल्यूडी ने तीन माह अतिरिक्त समय मांगा है। उसे तीन माह एक्सटेंशन मिल गया है। अब इस अस्पताल की सुविधा लेने के लिए क्षेत्रवासियों को नवंबर तक इंतजार करना होगा।

राज्य शासन ने साफ किया था कि हर हाल में अस्पताल जुलाई माह तक खुल जाना चाहिए। लेकिन बिजली कंपनी समय पर बिजली कनेक्शन नहीं दे सकी। वर्तमान में भी ट्रांसफार्मर नहीं लग पाया है। ऐसे में अस्थायी बिजली कनेक्शन से काम चल रहा है। लेकिन अब चिकित्सीय मशीन स्थापित करनी है। इसके लिए कक्ष तैयार करना है और पावर सप्लाई के लिए फिटिंग काम करने के साथ ही मशीन की टेस्टिंग करनी है, जो अस्थायी कनेक्शन से संभव नहीं है। ऐसे में इसका काम रुक सा गया है। इस देरी को देखते हुए तीन माह का और समय मांग लिया।

बिजली कंपनी से किया जा रहा संपर्क

सिम्स प्रबंधन लगातार बिजली कंपनी से संपर्क कर रहा है। जहां स्थायी पावर सप्लाई के लिए लाइन खींचने व ट्रांसफार्मर लगाने को कहा गया है। जहां कंपनी ने जल्द ही काम पूरा करने की बात कही है।

न्यूरो सर्जरी, कार्डियोलाजी सहित अन्य सुविधाएं

सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में न्यूरो सर्जरी, कार्डियोलाजी, सर्जरी, पिडियाट्रिक सर्जरी, न्यूरोलाजी व अन्य इलाज की सुविधा रहेगी। इस अस्पताल के बनने के बाद कम खर्च में अधिक सुविधा मिलेगी। एक ही परिसर में सब कुछ रहेगा। कोनी में शासन ने सिम्स को 50 एकड़ जमीन दी है। इसमें से 40 एकड़ जमीन पर सुपर स्पेशलिटी व अन्य जरूरी यूनिट रहेंगी। कोनी में सुपर स्पेशलिटी अस्पताल के अलावा डाक्टरों और स्टाफ के रहने के लिए भवन बनाने का भी प्रस्ताव है। हालांकि अभी इसका निर्माण शुरू नहीं किया जा सका है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close