बिलासपुर। छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट की स्थापना के दो दशक बाद गुस्र्वार को यह पहला अवसर होगा जब जस्टिस प्रशांत मिश्रा व जस्टिस गौतम भादुड़ी की डिवीजन बंेच में छह जनहित याचिका की बारी-बारी सुनवाई होगी। खास बात ये कि सभी छह पीआइएल की सुनवाई वीडियो कांफ्र्रेंसिंग के जरिए होगी। जस्टिस मिश्रा व जस्टिस भादुड़ी हाई कोर्ट में मौजूद रहेंगे। केंद्र व राज्य शासन के अलावा याचिकाकर्ताओं के वकील अपने घरों से वीसी के जरिए अपनी याचिकाओं पर बहस करेंगे। बहस के दौरान डिवीजन बेंच द्वारा पूछे जाने वाले सवालों का जवाब भी देंगे। वीसी के जरिए बुधवार को रजिस्ट्रार जनरल की अगुवाई में तैयारी की गई। ट्रायल भी किया गया। गुस्र्वार को सुबह 10 बजे तकनीकी विशेषज्ञों की टीम एक बार फिर ट्रायल करेगी। सुबह 11.30 बजे से मामले की सुनवाई प्रारंभ होगी।

हाई कोर्ट में ई-मेल के जरिए वकील दायर कर सकेंगे याचिका

सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी आदेश के बाद हाई कोर्ट ने याचिका दायर करने के लिए अब नई सुविधा वकीलों को दी है। वकीलों को अब याचिका दायर करने के लिए दस्तावेजों की फाइल लेकर रजिस्ट्रार जनरल के कार्यालय आने की जरूरत नहीं है। ई-मेल के जरिए याचिका दायर कर सकेंगे। मेल के जरिए ही जरूरी दस्तावेज मेल कर सकेंगे। केंद्र सरकार ने 14 अप्रैल तक देश में लॉकडाउन कर दिया है।

कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए हाई कोर्ट ने महत्वपूर्ण प्रकरणों में वकीलों को ई मेल के जरिए याचिका दायर करने की सुविधा प्रदान कर दी है। हाई कोर्ट के निर्देश का असर भी सामने आ रहा है। दो मामलों में वकीलों ने ई मेल के जरिए ही याचिका दायर की है। इसकी सुनवाई गुस्र्वार को होगी।

Posted By: Himanshu Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना