बिलासपुर। बिलासपुर। अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय में आयोजित दो दिनी आनलाइन अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का मंगलवार को समापन हुआ। 16 तकनीकी सत्र में 185 शोध पत्रों का वाचन हुआ। विद्वानों ने एजुकेशन 4.0 पर बल दिया। कम्प्यूटर साइंस एण्ड एप्लीकेशन विभाग द्वारा आयोजित सम्मेलन में छत्तीसगढ़ सहित भारत के विभिन्न प्रांतों के अलावा अमेरिका, फिलीपींस, कुवैत, ओमान, नीदरलैंड से प्रतिभागी जुड़े थे। विज्ञान प्रबंधन और प्रोैघेगिकी में अभिनव अनुसंधान विषय पर विद्वानों ने अपनी बात रखी।

जिनमें प्रमुख रूप सेपंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय,रायपुर से डा. केशवकांत साहू, यूनिवर्सिटी आफ टेक्नोलाजी एंड एप्लाइड साइंस,ओमान से डा.अविनाश गौर,अमेटी इंस्टीट्यूट आफ हायर एजूकेशन, मारीशस से डा.आशीष गडेकर,आइआइएम त्रिची से डा. सुजीत के शर्मा,अमेरिकन विश्वविद्यालय,कुवैत से डा.एरान रबाबा,कुवैत ने अपनी बातें रखी। कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलपति आचार्य डा.अरुण दिवाकर नाथ वाजपेयी ने किया। उन्होंने विभिन्न प्रासंगिक एवं नवीन विषयों पर देश-विदेशों के शोधार्थीयों द्वारा शोध पत्रों की प्रस्तुती पर प्रशंसा करते हुए भविष्य में और बेहतर करने प्रोत्साहित किया। सम्मेलन में अतिविशिष्ट अतिथि के रूप में एआईएमटी के अध्यक्ष प्रो.देवा डी.शर्मा शामिल हुए।

पूर्व कुलपति प्रो.शर्मा शोध पर दिया बल

सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व कुलपति प्रो.जीडी शर्मा शामिल हुए। शोधार्थियों के शोध पत्रों को लेकर उन्होंने प्रशंसा की। भविष्य में और भी नए विषयों पर शोध करने बल दिया। इस अवसर पर कार्यक्रम अधिकारी एवं विभागाध्यक्ष डा. एचएस होता उपस्थित थे। कार्यक्रम में तीनों विषयों विज्ञान प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन में पृथक-पृथक बेस्ट पेपर अवार्ड दिया गया।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local