बिलासपुर। सहारा सोसाइटी द्वारा सहारा प्रबंधक के खिलाफ अपराध दर्ज करने प्रदेशभर में प्रदर्शन किया जा रहा है। प्रदर्शनकारियों ने बिलासपुर कलेक्टर डा. सारांश मित्तर को ज्ञापन सौंपा है। जमाकर्ताओं के जमा राशि की परिपक्वता अवधि के पूरा होने के बाद भी भुगतान नहीं करने के कारन नेहरू चौक पर धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। राजनांदगांव और महासमुंद जिले में सहारा प्रबंधन के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है। इसी प्रकार राजनंदगांव में दंडाधिकारी अधिकारी ने सहारा सोसाइटी से लगभग 15 करोड़ रुपये की राशि वसूली की है। जिसे सोसाइटी के जमाकर्ताओं में वितरित किया जाना है।

आदेश जारी हो चुका है। इसी कड़ी में बिलासपुर क्षेत्र के सभी सहारा सोसाइटी के जमाकर्ता और कार्यकर्ताओं की स्थिति भी अन्य जिलों के जमाकर्ताओं और कार्यकर्ताओं से भिन्न नहीं है और समय समय पर जमाकर्ताओं द्वारा विविध सरकारी संस्थानों में लिखित शिकायत भी की जा रही है। उसके बाद भी आज तक सहारा प्रबंधन के विरुद्ध न तो प्राथमिकी दर्ज की गई है और न ही किसी प्रकार की, जमाकर्ताओं के हित में कोई कार्रवाई की गई है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दिया आदेश

प्राथमिकी दर्ज करने के बाबत आवश्यक दिशा—निर्देश, केन्द्रीय गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा साल 2015 में ही जारी किए गए थे। बिलासपुर में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

आर्थिक स्थिति खराब

सहारा जमाकर्ताओं में बहुतांश जमाकर्ता बहुत ही निम्न आय वर्ग के है। जिन्होंने अपनी जमा पूंजी को सहारा सोसाइटी में इसलिए जमा किया था कि वक्त वे वक्त वो काम आए। जब उन सभी जमाराशि की परिपक्वता अवधि पूरी हो गई है तो सहारा सोसाइटी द्वारा भुगतान नहीं किया जा रहा है। कोविड 19 के प्रकोप से इन जनसामान्य की आर्थिक स्थिति और भी खराब हुई है। जिससे उबरने के लिए वो सहारा सोसाइटी में अपनी विधिक जमा पूंजी का तत्काल भुगतान चाहते हैं।

Posted By: anil.kurrey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close