बिलासपुर। क्षेत्रीय रेल प्रबंधक योगेंद्र सिंह भाटी के पिता बीमार हैं। भाटी उनके स्वास्थ्य को लेकर बेहद चिंतित थे। अभी कुछ दिनों से उनकी तबीयत और बिगड़ चुकी थी। इसे लेकर उन्होंने एक महीने पहले छुट्टी के लिए आवेदन दिया था। उच्चाधिकारियों ने उन्हें नान इंटरलाकिंग कार्य चलते अवकाश नहीं दिया। इसके चलते भी तनाव में थे। यह बात भी सामने आ रही है कि जिस समय यह हादसा हुआ, वह मां से मोबाइल बात कर रहे थे। पारिवारिक तनाव की वजह से उन्हें बाजू से गुजरती ट्रेन का आभास नहीं हुआ। जांच के बाद पूरी स्थिति स्पष्ट होगी।

रेलवे के उच्चाधिकारियों पर हमेशा अवकाश को लेकर आरोप लगता है कि वह जानबूझकर अपने से नीचे के अधिकारी व कर्मचारियों को छुट्टी नहीं देते हैं। यह पहली बार नहीं है। हमेशा इस तरह की शिकायतें आती रही हैं। क्षेत्रीय रेल प्रबंधक भाटी भी अवकाश नहीं मिलने से परेशान थे। उनके माता-पिता ने भी रेल अफसरों पर लिखित में प्रताड़ना का आरोप लगाया है। उन्होंने अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक दिनेश चंद्र सागर से भी लिखित शिकायत भी की है। इन्हीं कारणों को लेकर भी जोन व मंडल कार्यालय में हड़कंप मचा हुआ है। इस मामले में जांच के दौरान आपरेटर विभाग के अधिकारियों पर कार्रवाई की गाज गिर सकती है। बताया जा रहा है कि वे प्रतिदिन मां से फोन पर पिता का हाल जानते थे। वह पिता से मिलने के लिए जाना चाहते थे, लेकिन उच्चाधिकारियों द्वारा उन्हें अवकाश नहीं दिया गया।

डब्ल्यूसीआर रेलवे में ट्रांसफर के लिए कर रहे थे प्रयास

क्षेत्रीय रेल प्रबंधक की पत्नी डब्ल्यूसीआर रेलवे जबलपुर में अधिकारी है। जबलपुर में ट्रांसफरके लिए वे काफी दिनों से प्रयास कर रहे थे। उन्होने आवेदन भी दिया, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई। इसके कारण भी वे परेशान थे।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close