गौरेला, बिलासपुर । ग्राम हर्री के गांधीगंज मिडिल स्कूल के मिड डे मील खाने में छिपकली मिलने से 22 बच्चों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गौरेला लाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई। गौरेला के समीपस्थ ग्राम हर्री के गांधीगंज प्राथमिक शाला में मध्यान्ह भोजन के दौरान गुरुवार को दोपहर में बच्चों की थाली में मरी हुई छिपकली मिलने से स्कूल में हड़कंप मच गया।

छात्रों ने इसकी शिकायत शिक्षक से की गई तब शिक्षका भी छात्रों के साथ-साथ भोजन कर रही थी। इसके बाद प्रभारी प्रधान पाठक दिलेश्वरी पटेल ने आनन-फानन में प्रशासन को इसकी सूचना दी। उन्होंने एसडीएम को भी इसकी जानकारी दी गई।

इसके बाद एसडीएम मनोज केशरिया ने तत्काल अपने वाहन में ही सभी बच्चों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गौरेला भर्ती कराया ,हालांकि बधाों के शरीर में अभी तक छिपकली के जहर या किसी भी प्रकार का कोई रिएक्शन देखने को नहीं मिला। सभी बच्चों को ऐहतियातन चिकित्सकों की देखरेख में रखा गया।

डॉक्टर के अनुसार कम से कम चार घंटे तक इन्हें निगरानी में रखा। इसके बाद स्थिति सामान्य होने पर सभी को उनके घर भेज दिया गया। शिक्षिका दिलेश्वरी पटेल के अनुसार जैसे ही बच्चों को थाली में छिपकली के अंश मिले उन्होंने भोजन बाहर फेंकवा दिया पर फिर भी कुछ बच्चों ने दो-चार निवाले खा लिए थे इसलिए सभी को अस्पताल ले आई हैैं।

भोजन बनाने वाले समूह के रसोइए का कहना है कि उन्होंने भोजन ढक कर बनाया था पर छिपकली कैसे गिर गई जानकारी नहीं है। गनीमत रही कि बच्चों ने समय रहते थाली में छिपकली के अंश देख लिए और पूरा भोजन नहीं किया जिससे किसी भी प्रकार की कोई अप्रिय स्थिति निर्मित होने से बच गई।

शिक्षिका ने बताया कि कक्षा पांचवी के मनीष , शिवराज ,श्रवण , अमन, कक्षा चौथी के लक्ष्मण , राज, दिव्या , कक्षा तीसरी के भूपेंद्र , कसक , दूसरी के अंकित, चंचल ,मयंक पहली के राजकुमार , वेदांत , दामिनी सहित सभी बधाो को चार घंटे तक अस्पताल में रखा गया था। डॉक्टर के अनुसार सभी की हालत ठीक होन पर उन्हें उनके घर पहुंचाया गया ।

- सभी सभी छात्रों को चार घंटे तक निगरानी में रखा गया था किसी छात्रों को अस्वस्थ नहीं लग रहा था। सभी स्वास्थ्य हो चुके है। इसके बाद उनको अस्पताल की बस द्वारा घर भेजा गया - अमर सिंह सेंद्राम, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, एमसीएच