बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

बसंत पंचमी पर्व पर रविवार को सुबह से आस्था का माहौल रहा। शिक्षण संस्थाओं के साथ ही गुरु-शिष्य परंपरा में संगीत-नृत्य की शिक्षा लेने वाले साधकों ने विधिपूर्वक मां सरस्वती का पूजन किया। वहीं गायत्री मंदिर समेत कई मंदिरों में बच्चों का नामकरण, विद्या आरंभ व मुंडन संस्कार के साथ हवन व अन्य धार्मिक अनुष्ठान हुए।

माघ शुक्ल पंचमी में सर्वार्थ सिद्धि और रवि, शुभ व साध्य योग के विशेष संयोग में बसंत पंचमी का पर्व मनाया गया। कई जगह धार्मिक व सांस्कृतिक आयोजन हुए। रेलवे परिक्षेत्र स्थित बंगाली स्कूल, विद्या नगर समेत कई क्षेत्रों में मां सरस्वती की आदमकद प्रतिमा की स्थापना की गई। इसके बाद महाभोग अर्पित किया गया। सुबह से ही सभी ओर वसंतोत्सव का उत्साह रहा।

मांगलिक कार्य भी हुए

वसंत पंचती अबूझ मुहूर्त होने की वजह से मांगलिक कार्यों की धूम रही। साथ ही गृह प्रवेश, नव कार्य की शुरुआत, वाहन खरीदारी समेत कई शुभ कार्य भी किए गए।

दीपों की रोशनी से जगमगाया गायत्री मंदिर

विनोबा नगर स्थित गायत्री शक्तिपीठ में चल रहे तीन दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान के तीसरे दिन वसंत उत्सव धूमधाम से मनाया गया। मंदिर में सुबह नौ कुंडीय यज्ञ हुआ। इसमें वसंत पंचमी होने की वजह से मां सरस्वती के साथ ही गायत्री परिवार के संस्थापक श्रीराम शर्मा आचार्य के आध्यात्मिक जन्मोत्सव होने पर उनके लिए भी विशेष आहुतियां दी गई। इसी कड़ी में 21 बच्चों का विद्या आरंभ संस्कार, यज्ञोपवित संस्कार, दीक्षा संस्कार, पुंसन संस्कार और अन्नप्राशन संस्कार किया गया। वहीं शाम को दीपयज्ञ हुआ।इससे पूरा मंदिर परिसर सैकड़ों दीपों की रोशनी से जगमग होता रहा। श्रद्घालुओं ने कलश, स्वास्तिक, ओम, शुभ-लाभ समेत अनेक शुभ चिन्हों को दीपों से सजाया।

गीत-संगीत की सजी महफिल

कला संगम व सांस्कृतिक मंच के 25वें स्थापना दिवस पर देर शाम तक गीत-संगीत की महफिल सजी। साथ ही गणेश चौक स्थित समृद्घि बाजार में मंच के स्थाई कार्यालय का उद्घाटन हुआ और बाजार के परिसर में गीत-संगीत का कार्यक्रम हुआ। मंच के संस्थापक आलेख वर्मा ने बताया कि स्थायी कार्यालय की स्थापना के बाद यहां संगीत का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। इसके साथ ही संगीतमय कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती वंदना के साथ हुई। इसके बाद भजनों की प्रस्तुति हुई। साथ ही रुक जाना नहीं तू कहीं हार के.., बेखुदी में सनम.., लग जा गले.., तू इस तरह से मेरी जिंदगी में.. समेत कई पुराने फिल्मी गानों की प्रस्तुति देकर गायकों ने दर्शकों का मन मोह लिया। कलाकारों में संस्था के अध्यक्ष गिरीश त्रिवेदी, तरुण शर्मा, दीपक जावलकर, मंजू राव, श्रुति राव, परमवीर सिंह परमहास (पम्मी), हरिशक्ति ने गीतों की प्रस्तुति दी। इस अवसर पर अब्दुल अलीम, राजेश इंदौरिया, ललित अग्रवाल, नीरज वर्मा, योगेश त्रिवेदी, नरेश श्रीवास्तव, सुंदर श्रीवास्तव, श्याम सोनी, राकेश साहु, शेरू खान, गणेश नामदेव, राजेश दुआ, पी.रामा राव, दुर्गेश्वरी सोनी समेत मंच के सभी पदाधिकारी व श्रोताओं की उपस्थिति रही।

Posted By: