बिलासपुर। शहर में 26 जून रविवार को भरनी स्थित चतुर्वेदी फार्म में वृहद पौधरोपण का आयोजन किया गया। समूह द्वारा यह आयोजन इस वर्ष का प्रथम एवं सबसे वृहद पौधरोपण आयोजन था जिसे आक्सीजन समूह के द्वारा सफलता पूर्वक पूर्ण किया गया आक्सीजन समूह के द्वारा बिलासपुर में इस वर्ष पुनः अलग-अलग जगहों पर वृहद रूप से पौधरोपण करने की योजना बनाई गई जिसमें लगभग 10- 12000 पौधे रोपित करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

26 तारीख रविवार के पौध रोपण कार्यक्रम में प्रमुख रूप से उपस्थित ऑक्सीजन समूह के संरक्षक डॉ देवेंद्र सिंह जी ने बताया की कोरोना महामारी के बाद यह हमारा सबसे बड़ा और सफल आयोजन है उन्होंने इस कार्यक्रम के बारे में आगे जानकारी देते हुए बताया कि आज बिलासपुर में तापमान का अंतर विगत दो-तीन वर्षों में लगभग 3 से 5 डिग्री बढ़ चुका है जिससे लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ी है जिसके कारण लोगों में पौध रोपण का प्रतिशत बढ़ते जा रहा है सभी को हरियाली की आवश्यकता समझ आ रही है एवं चिंता हो रही है।

लोग जागरूक हो रहे हैं और पौधे के रोपण के बाद उसे संरक्षित करने हेतु दृढ़ संकल्पित होते जा रहे है हमारा समूह पौधरोपण के क्षेत्र में ऐसा समूह बन गया है जो शहर के लगभग हर कालोनी एवं सार्वजनिक स्थानों में पौधे रोपित कर संरक्षित करने का कार्य किया है हमारे समूह के सदस्यों के द्वारा चिन्हित किए गए स्थान और जनता के निवेदन करने पर पौधरोपण करने के लिए पूरी टीम को भेजी जाती है और साल भर के लिए हम उस पौधे को संरक्षित करने के संकल्प के साथ पौधों का रोपण करते हैं।

कार्यक्रम में उपस्थित चतुर्वेदी फॉर्म एवं दिल्ली आईएएस अकैडमी के संरक्षक श्री शिव चतुर्वेदी जी ने बताया हमारे द्वारा इस वर्ष इस वर्ष लगभग 6000 पौधे रोपित किए जाने का लक्ष्य रखा गया है जिसमें आम, आंवला, गुलमोहर, बरगद, पीपल, नीम, कदम, बादाम, सप्तपर्णी, गुणाकार पर के पौधे लगाए जा रहे है आक्सीजन के सदस्य इंजीनियर नवनीत सिंह राठौर द्वारा पौधरोपण में इस वर्ष क्रोना कार्पस के पौधों रोपित करने एवं उसपर जोर देने के लिए कहा आगे जानकारी देते हुए बताया गया कि क्रोना कार्पस पौधा हमारे शहर के लिए सबसे उपयुक्त पौधा है क्यों की ये मीठे और खारे पानी, न्यूनतम एवं अधिकतम तापमान और किसी भी प्रकार की मिट्टी के साथ बहुत जल्दी बढ़ता है यह पौधा गर्मी के दिनों में सात दिवस में एक बार पानी मिलने पर भी जीवित रहता है।

इसमें सदा हरियाली बनी रहती है साथ ही साथ यह बहुत ही मजबूत पौधा होता है जिसके कारण यह इसे दिमग प्रतिरोधक पौधा माना जाता है क्रोना कार्पस मिट्टी के कटाव को पूर्णता रोक देता है इसलिए इस पौधे को नदी, तालाब के किनारे लगाना

बहुत फायदेमंद साबित होता है

कार्यक्रम के समापन में सौरभ चतुर्वेदी के द्वारा पौधारोपण में पधारे सभी सदस्यों का आभार प्रदर्शित किया गया। ज्ञात हो की अक्सीजन समूह विगत पांच वर्षों से पौधरोपण, पौध संरक्षण, जल संवर्धन एवं पर्यावरण हित के लिए कार्य करने वाली बिलासपुर की सबसे बड़ी संस्था है इस संस्था में शहर के 90% पर्यावरणवि और प्रबुद्ध जनो के साथ शहर के डॉक्टर इंजीनियर आर्किटेक्ट एवं चार्टर्ड अकाउंटेंट जुड़े हुए हैं

ऑक्सीजन समूह बिलासपुर शहर में पौधरोपण के पश्चात पौधे के संरक्षण पर कार्य करने के लिए और जल संवर्धन के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाली एक जानी-मानी संस्था है।

आक्सीजन समूह के इस वृहद पौधरोपण कार्यक्रम में प्रमुख रूप से डा. देवेंद्र सिंह, सुस्मित कौर, रमन किरण, चंपा रमन किरण, डा. मुकुल श्रीवास्तव, रणबीर सिंह, डॉक्टर सुनील केडिया, सीए सत्यकाम आर्य, राजकुमार सिंघानिया, देवराज सिंह, ऋषि सिंह, सी ए आनंद अग्रवाल, ई. नवनीत सिंह राठौर, संदीप गुप्ता, शिव चतुर्वेदी, प्रमिला चतुर्वेदी, विद्या चतुर्वेदी, डा शांति राठौर, यशवर्धन सिंह, युवान चतुर्वेदी, अकरम, धीरज दुबे, रूपेश मिश्रा, सलीम, गोलू भैया, आदिति राठौर चारविक चतुर्वेदी, बेदन, मिथिला, एवं चोरभट्ठी खुर्द के नागरिक उपस्थित थे।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close