बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

जोनल स्टेशन के यात्रियों को तीन से चार दिन के भीतर गर्मी से राहत मिलने वाली है। रेल प्रशासन ने प्लेटफार्म एक में मिस्टिंग मशीन लगाने का कार्य प्रारंभ कर दिया है। प्लेटफार्म की चौड़ाई को देखते हुए दो पाइप बिछाई जा रही है। इस पाइप में जगह- जगह छेद है जिससे पानी के फौव्वारे निकलेंगे और प्लेटफार्म की तपिश कम होगी।

जोनल स्टेशन में प्रतिदिन 50 से 60 हजार यात्रियों की भीड़ रहती है। इसके अलावा 100 से अधिक ट्रेनें छूटती और गुजरती हैं। ट्रेन व भीड़ के आंकड़ों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस स्टेशन में सुविधाओं की कितनी आवश्यकता है। वैसे तो रेलवे ने यात्रियों के बैठने के लिए कुर्सियां, पीने के लिए पानी और हवा के लिए इलेक्ट्रानिक पंखे लगाए गए हैं। लेकिन तापमान अधिक है कि पंखे की हवा भी कारगर साबित नहीं हो रही है। प्लेटफार्म पर शेड लगे होने के कारण नीचे तपिश रहती है। इसके चलते पंखे की हवा भी इतनी गर्म रहती है कि यात्री चाहकर भी उसके नीचे खड़े होने से कतराते हैं। रेल प्रशासन यात्रियों की इस तकलीफ से रोज रूबरू हो रहा है। किसी न किसी माध्यम से यात्रियों की शिकायत भी उनके पास पहुंचती है। यात्री पूर्व में लगाई गई मिस्टिंग मशीन को भी ढूंढते नजर आते हैं। इन्हीं परेशानियों को देखते हुए रेल प्रशासन ने दोबारा मिस्टिंग मशीन लगाने की योजना बनाई। इसके लिए प्रस्ताव बनाकर भेजा गया। बजट स्वीकृत होने के बाद तत्काल शेड के नीचे पाइप बिछाने का काम प्रारंभ भी कर दिया गया। करीब चार- पांच दिन से अमला इस काम में जुटा हुआ है। लगभग आधा काम पूरा भी हो चुका है। यह पाइप छेददार है। हर एक छेद में नोजल लगे होंगे। जिसके जरिए पानी फौव्वारों व धुएं के रूप में नीचे गिरेगा। इससे प्लेटफार्म में ठंडा रहेगा और यात्रियों को राहत मिलेगी।

मेंटेनेंस के अभाव में पूर्व में सुविधा ठप

मालूम हो कि रेल प्रशासन की ओर से पूर्व में इस प्लेटफार्म में मिस्टिंग मशीन लगाई थी। लेकिन स्वीकृत वर्क नहीं होने और मेंटेनेंस का पुख्ता इंतजाम नहीं होने के कारण पाइप जर्जर हो गया। स्थिति यह थी कि फौव्वारे कम पानी ज्यादा टपकता था। यात्रियों को राहत मिलने के बजाय असुविधा होने लगी थी। जिसे देखते हुए पाइप उखाड़ दिए गए।

प्लेटफार्म एक में नए सिरे से मिस्टिंग मशीन लगाई गई है। इसके तहत पाइप बिछाने का काम लगभग पूरा हो गया। तीन से चार दिन में यह सुविधा आम यात्रियों को मिलने लगेगी।

पुलकित सिंघल

सीनियर डीसीएम, बिलासपुर रेल मंडल