बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

सीवरेज की ठेकेदार कंपनी सिम्प्लेक्स प्राइवेट लिमिटेड ने लगातार लगाए जा रहे जुर्माने पर कड़ी नाराजगी जताते हुए निगम को इस बार खरा-खरा पत्र जारी किया है। ठेकेदार कंपनी ने लेटलतीफी के लिए नेतागीरी को जिम्मेदार बताया है। निगम अधिकारियों के द्वारा समय-समय काम रोकने के लिए आदेश की प्रति भी ठेकेदार ने दी है। अब इस विवाद पर नगरीय प्रशासन विभाग के मुख्य अभियंता के यहां 16 अक्टूबर को बैठक होगी।

नगर निगम ने सीवरेज के काम में विलंब के लिए ठेकेदार कंपनी सिम्प्लेक्स प्राइवेट लिमिटेड पर छह प्रतिशत जुर्माना लगा दिया है। इस जुर्माने के बाद निगम द्वारा फिर ठेकेदार को काम शुरू करने का पत्र लिखा गया तो इस बार उनकी तरफ से खरा-खरा पत्र मिला है। इसमें ठेकेदार ने निगम अधिकारियों द्वारा चुनाव, त्योहार और अन्य मौकों पर काम रोकने का जो आदेश दिया था उसकी प्रति भी निगम को सौंपी है। इसमें कहा गया है कि काम में विलंब के लिए वे अकेले जिम्मेदार नहीं है। निगम और नेतागीरी भी जिम्मेदार हैं। इसके कारण काम में दस साल से अधिक विलंब हुआ। केवल ठेकेदार को विलंब के लिए जिम्मेदार ठहराने को उन्होंने गलत बताया है। ठेकेदार ने अपने पत्र में बताया कि बार-बार जुर्माना लगाने के कारण जितना काम वे करते है उसमें पैसा बचना तो दूर लागत तक नहीं निकल रही है। ऐसे में काम करना संभव नहीं हो रहा है। उन्होंने बचे हुए काम को भी पूरा करने की इच्छा जताई है। लेकिन निगम द्वारा लगाए जा रहे जुर्माने पर भी ठेकेदार ने नाराजगी जताई है। इस बार नगरीय प्रशासन विभाग के मुख्य अभियंता यूके धलेंद्र की अध्यक्षता में ठेकेदार और निगम अधिकारियों की बैठक होगी। इसमें सीवरेज का काम शुरू करने के संदर्भ में अहम निर्णय होगा। ठेकेदार को 16 अक्टूबर को राजधानी तलब किया गया है। इसमें अगर कोई निर्णय होता है तो दीपावली बाद शहर में एक बार फिर सीवरेज का काम चलता हुआ दिख सकता है।

यहां बचा है मुख्य काम

शहर में सीवरेज की पाइप लाइन डालने का काम विनोबा नगर से सीएमडी चौक, कोतवाली के सामने वाला हिस्सा ही बचा है। मुश्किल से सवा किलोमीटर और पाइप लाइन डालने के बाद काम पूरा हो जाएगा। इसके अलावा जवाली पुल के सामने सीवरेज पंपिंग स्टेशन, मेनहोल बनाना, प्रापर्टी चेंबर का काम होगा। इन कार्यों के लिए सड़क को ज्यादा खोदने की जरूरत नहीं होगी।

सीवरेज ठेकेदार ने काम में विलंब होने के कारणों के संदर्भ में पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने निगम द्वारा समय-समय पर काम रोकने के संदर्भ में जारी किए गए आदेश की तारीख भी बताई है। मुख्य अभियंता की ओर बुलाई गई बैठक में पूरे मामले पर चर्चा होगी। ठेकेदार ने बचे हुए काम को पूरा करने की इच्छा जताई है।

सुरेश बरुआ

सीवरेज सेल प्रभारी, नगर निगम