बिलासपुर। कोटा के पीडब्ल्यूडी के रेस्ट हाउस से प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की फोटो नहीं लगाई गई है। जबकि वहां राष्ट्रपति, पीएम व राज्यपाल की फोटो है। सीएम की फोटो नहीं होने से कांग्रेस नेता व किसान कांग्रेस के अध्यक्ष संदीप शुक्ला ने नाराजगी जाहिर किया है। लापरवाही बरतने वाले विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। प्रदेश के सीएम संवैधानिक पद है। नियमानुसार फोटो लगानी चाहिए।

जिला किसान कांग्रेस अध्यक्ष संदीप शुक्ला ने कहा कि अधिकारी जानबूझकर पुराने ढर्रे पर चल रहे हैं। मुख्यमंत्री का पद संवैधानिक होता है। वह राज्य का प्रमुख होता है। राज्यपाल को राज्यों में प्रथम नागरिक होने का गौरव हासिल है। इसके बावजूद अधिकारी और कर्मचारी अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं। किसान नेता संदीप दुबे ने बताया कि किसी भी सरकारी भवन में राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल और राज्य प्रमुख की फोटो प्रोटोकाल के तहत सम्मान में लगाई जाती है। लेकिन पीडब्लूडी विभाग कोटा रेस्ट हाउस की दीवार पर जानबूझकर राज्य प्रमुख मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की फोटो नहीं लगाई गई है। ऐसा किया जाना संवैधानिक पदों पर बैठे सम्मानित लोगों का अपमान है।

पीडब्ल्यूडी के कोटा रेस्ट हाउस में वर्तमान राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल के अलावा पूर्व राष्ट्रपति एपीजे कलाम की फोटो लगी है। लेकिन प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल की फोटो का नहीं लगाई जाना सरासर अपमान है। प्रदेश के मुखिया की फोटो नहीं लगाना नीति निदेशक सिद्धान्तों के खिलाफ है। नियमानुसार राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और राज्यपाल के साथ सभी सरकारी संस्थानों में मुख्यमंत्री का फोटो लगाया जाना जरूरी है। इसके बावजूद कोटा रेस्ट हाउस में इस बात को नजरअंदाज किया गया है। उन्होंने इस मामले की शिकायत कोटा एसडीएम से की है। उन्होंने मामले को गंभीरता से जांच कर जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई करने करने की मांग की है। यदि प्रदेश के मुखिया की फोटो रेस्ट हाउस में अन्य नेताओं के साथ नहीं लगाई गई तो दोषी कर्मचारियों के खिलाफ सीएम से शिकायत की जाएगी।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close