बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोटा वन परिक्षेत्र अंतर्गत झिंगटपुर में एक हैक्टेयर वन भूमि पर अतिक्रमण हो गया था। इसकी शिकायत मिलने के बाद सोमवार को वन विभाग की टीम ने अतिक्रमणकारियों को हटाने कार्रवाई की। इस दौरान मकानों को ढहाया गया। इस कार्रवाई से पूरे दिन हड़कंप की स्थिति रही। इसे लेकर किसी तरह विरोध न हो इसलिए वन विभाग ने जिला व पुलिस प्रशासन दोनों का सहयोग भी लिया।

वन भूमि पर कब्जे की शिकायत स्थानीय ग्रामीणों ने ही की थी। वन विभाग के साथ कलेक्टोरेट पहुंचकर ग्रामीणों ने वन भूमि की क्षति की जानकारी दी। इसके बाद जिला प्रशासन ने भी मामले को गंभीरता से लिया। वन विभाग ने उनकी मदद से ही सोमवार को एक्सीवेटर लेकर अतिक्रमणकारियों को खदेड़ने की शुस्र्आत हुई। इस कार्रवाई के दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे। चूंकि अतिक्रमणकारियों को पहले ही नोटिस दे दिया गया था, इसलिए उन्होंने सामान हटा लिया था।

वन विभाग का अमला मौके पर पहुंचा और सीधे कार्रवाई शुरू कर दी गई। इस कार्रवाई के दौरान एसडीओ, रेंजर के अलावा राजस्व अधिकारी और कोटा टीआइ भी मौजूद थे। दरअसल वन विभाग को यह आशंका थी कि कार्रवाई का विरोध हो सकता है। पहले इस तरह के प्रदर्शन का सामना हो चुका है। इसलिए विभाग किसी तरह जोखिम नहीं उठाना चाहता था। सुरक्षा के सारे उपाय कर अमला मौके पर पहुंचा था। मकान ढहाने के साथ ही अतिक्रमणकारियों को चेतावनी दी गई है कि अब दोबार इस तरह अपराध न करें। संरक्षित वन भूमि पर कब्जा करना अपराध की श्रेणी में आता है।

क्या कहते हैं अधिकारी

झिंगटपुर में वन भूमि पर कब्जे की शिकायत मिली थी। सूचना तो बरसात से पहले ही मिली थी, लेकिन उस समय कार्रवाई इसलिए नहीं की गई। उस समय परेशानी हो जाती है। उन्हें मोहलत उसी समय दे दी गई थी। अब जिला व पुलिस प्रशासन की मदद लेकर कब्जा हटाने की कार्रवाई की गई है।

- कुमार निशांत, डीएफओ, बिलासपुर वनमंडल

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close