बिलासपुर। अनूपपुर से अमलाई के बीच बिलासपुर- कटनी ट्रेन के यात्रियों में उस समय हड़कंप मच गया, जब अचानक ट्रेन के ऊपर से चिंगारी निकलने लगी। तेज आवाज भी आई। हालांकि चालक ने सतर्कता दिखाने हुए ट्रेन रोक दी। इसके बाद सभी यात्री ट्रेन से उतर गए। बाद में ओएचई विभाग का अमला पहुंचा और सुधार किया। इसके बाद ट्रेन गंतव्य के लिए रवाना हो गई है।

घटना सुबह की है। यह ट्रेन सोमवार को भी तय समय सुबह 10 बजे अनूपपुर रेलवे स्टेशन पहुंची। इसके बाद रवाना हुई। ट्रेन कुछ दूर आगे पहुंची थी की अचानक ट्रेन के पहिए थम गए। जब ट्रेन के ऊपर का नजारा देखा तो सभी पूरी तरह घबरा गए। दरअसल ओएचई तार ढीला होकर नीचे आ गया था। जिस हिस्से में तार की यह स्थिति थी वहां ट्रेन पहुंचते ही तार और ट्रेन का ऊपरी हिस्सा संपर्क में आया। इसके बाद तेज आवाज चिंगारी उठने लगी।

यह हाईटेंशन तार होता है। तार टूटा नहीं इसलिए किसी तरह हादसा नहीं हुई। यदि टूट जाती तो पूरी ट्रेन में करंेंट आ सकती थी। इससे बड़ा हादसा भी हो सकता था। हालांकि इस घटना से यात्रियों में दहशत का माहौल दिखा। अधिकांश ट्रेन से उतरकर भागने लगे थे। चालक ने कंट्रोल को जानकारी दी। इसके बाद कंट्रोल से ओएचई विभाग को तत्काल सुधारने के लिए भेजा गया। टीम पहुंची और कुछ देर की मशक्कत के बाद तार की मरम्मत कर ली गई। प्रत्यक्षदर्शी यात्रियों के अनुसार घटना अमलाई स्टेशन के पहले किमी क्रमांक 877/23 संजय नगर के करीब की है। ट्रेन झटके से रूकी, इसलिए यात्री पूरी तरह से डर गए थे।

ओएचई विभाग की कार्यशैली पर सवाल

इस घटना के बाद ओएचई विभाग की कार्यशैली पर सवाल खड़ा हो गया है। दरअसल रेलवे दावा करती है कि उनके अलग- अलग विभागों की टीम नियमित पेट्रोलिंग करती है। इसमें ओएचई विभाग भी है। यदि पैट्रोलिंग हो रही है तो संबंधित विभाग के मैदानी अमले को तार ढीलाकर नीचे आने की सूचना कैसे नहीं मिली।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close