बिलासपुर। शहर में एक साथ ओमिक्रोन के तीन संक्रमित मिल गए हैं। इसमे डरने वाली बात यह है कि तीनों की कोई भी ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है। इससे यह तो साफ हो गया कि ओमिक्रोन वैरियंट के फैलने का रास्ता मिल गया है। यदि और भी लोग इस वैरियंट से संक्रमित हुए तो यह बहुत जल्दी लोगों को संक्रमित करेगा। जिसने स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ा दी है।

तीनों मरीज शहर की घनी आबादी से मिले हैं। इसमें से विनोबा नगर पहले से ही संवेदनशील बना हुआ है। जहां लगातार मरीजों की पहचान हो रही है। ऐसे में आशंका है कि इस क्षेत्र में ओमिक्रोन के और भी मरीज हो सकते हैं।

इन्ही आशंकाओं के आधार पर विनोबा नगर, गीतांजलि सिटी और नर्स कालोनी निवासी ओमिक्रोन संक्रमित के संपर्क में आने वालों का आरटीपीसीआर सैंपल लिया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक इन सभी के परिवार के सदस्य के सात संपर्क में आने वाले 50 से ज्यादा लोगो का सैंपल लिया जा चुका है।

इन सभी सैंपल को जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भुनेश्वर भेजा जाएगा। अब स्वास्थ्य विभाग ने भी साफ चेतावनी दे दी है कि अब लापरवाही के गंभीर परिणाम सामने आएंगे, क्योंकि इनकी कोई भी ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है।

हर दिन जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेज रहे पांच प्रतिशत सैंपल

सीएमएचओ डाक्टर प्रमोद महाजन ने बताया कि जिले में जितने भी कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं। उनके संख्या के आधार और ओमिक्रोन क लक्षण को देखते हुए पांच प्रतिशत सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजा जा रहा है। इसी के माध्यम से ओमिक्रोन वैरियंट की मरीजों की पहचान की गई है।

इसलिए है डरना जरूरी

ओमिक्रोन की मारक क्षमता कितनी है, इसका कोई सही प्रमाण अभी तक नहीं है। लेकिन इससे डरना इसलिए जरूरी है कि यह बहुत तेज गति से फैलता है। इसी वजह से ये कम समय में ज्यादा लोगों को संक्रमित कर सकता है।

Posted By: anil.kurrey

NaiDunia Local
NaiDunia Local