बिलासपुर। मौसम विज्ञान केंद्र रायपुर की ओर से संभाग के बिलासपुर व कोरबा जिले में अगले 24 घंटों के भीतर भारी वर्षा की चेतावनी जारी की है। यानी स्वतंत्रता दिवस पर सुबह मध्यम वर्षा का अनुमान है। इसके बाद लोगों को दोपहर में राहत मिल सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र ने बिलासपुर जिले को आरेंज अलर्ट जारी किया है। यानी लोगों को सावधान रहने को कहा गया है। एक दिन पहले भी मौसम विभाग ने बिलासपुर को यलो अलर्ट जारी करते हुए 24 से 48 घंटे में सावधानी बरतने को कहा था।

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर को यलो के साथ रेड सिग्नल से अवगत करा दिया है। भारी वर्षा की स्थिति में लोगों को सावधानी बरतने की जरूरत है। निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को सचेत रहना होगा। बिलासपुर संभाग के सभी जिलों में और उससे लगे हुए जिलों में एक दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ भारी से अति भारी व वज्रपात होने की प्रबल संभावना है। बिलासपुर, कोरबा, मुंगेली, गरियाबंद, रायपुर, दुर्ग व धमतरी से लगे जिलों में एक-दो स्थानों पर भारी वर्षा जारी है। ऐसे में लोगों को किसी भी यात्रा पर निकलने से पूर्व सड़क या रेल मार्ग की पूरी जानकारी एकत्र कर निकलें। नगर निगम व जिला प्रशासन समेत जल संसाधन विभाग के अफसर निचली बस्तियों, नहर प्रवाह, कृषि फसल एवं सड़कों की स्थिति पर निगरानी रखे हुए हैं। वहीं रेलवे भी इस वर्षा को लेकर सतर्क है। यात्री ट्रेनों के साथ मालगाड़ी के परिचालन पर नजर है।

कलेक्टर ने स्वयं संभाली राहत एवं बचाव कार्य की कमान

अत्यधिक बारिश और बाढ़ की स्थिति से निपटने में जिला प्रशासन द्वारा युद्धस्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। नगर निगम क्षेत्र की निचली बस्तियों में बाढ़ प्रभावित लोगों को राहत शिविरों में पहुंचाया गया है। वहीं फसल एवं मकान क्षति का सर्वे कर मुआवजा प्रकरण तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं। कलेक्टर सौरभ कुमार स्वयं राहत एवं बचाव कार्य की निगरानी कर रहे हैं। नगर निगम आयुक्त अजय त्रिपाठी सहित जिले के सभी एसडीएम एवं तहसीलदार प्रभावित इलाकों का दौरा कर लोगों को राहत पहुंचाने में जुटे हुए हैं।

एसडीएम भारद्वाज ने शहर में लिया राहत कार्यों का जायजा

बिलासपुर नगर निगम के सिरगिट्टी, मन्न्ाडोल में गोकने नाला में उफान के कारण बस्ती में जलभराव होने पर एसडीएम बिलासपुर तुलाराम भारद्वाज एवं तहसीलदार बिलासपुर अतुल वैष्णव द्वारा अपनी टीम के साथ प्रभावित इलाके पर पहुंच कर स्थितियों का निरीक्षण किया गया। संबंधित क्षेत्र में बने राहत कैंप में सभी सुविधाओं की समुचित व्यवस्था कराई गई।

बिल्हा एसडीएम ने किया बाढ़ प्रभावित गांवों का दौरा

अनुविभागीय अधिकारी राजस्व बिल्हा अमित गुप्ता द्वारा मनियारी, शिवनाथ व अरपा नदी के किनारे स्थित गांव मोहदा ,अट्टर्रा, पोसरी , अमेरीकापा, उड़नताल, अमलडीहा, मंगला का अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के साथ दौरा किया गया। मौके पर पटवारी, कोटवार, सरपंच व सचिव उपस्थित मिले। उन्होंने पंचायत भवन व स्कूल में बनाये गये अस्थायी शिविर का भी निरीक्षण किया गया।

निगम कर्मियों की छुट्टी निरस्त, व्यवस्था बनाने निगम ने झोंकी ताकत

नगर निगम आयुक्त अजय त्रिपाठी ने बताया की शहर में बाढ़ एवं जलभराव की हालात को देखते हुए सभी कर्मियांे की छुट्टी निरस्त कर दी गई है। सभी को राहत एवं बचाव के कार्य में झोंक दिया गया है। गोेकने नाला में बाढ़ शहर के लिए कहर साबित हुई है। सकरी, उसलापुर मन्नाडोल में जलभराव का प्रमुख कारण बना है। करीब तीन सौ से ज्यादा प्रभावित लोगों को राहत शिविरों में ठहराया गया है। सभी सामुदायिक भवनों और स्कूलों को राहत शिविर बनाए गए हैं। भोजन पानी और सोने की व्यवस्था शिविर स्थलों में की गई है। जेसीबी मशीन से अवरोधों को हटाकर और लाइनिंग बनाकर जलभराव को दूर किया जा रहा है।

अरपा भैंसाझार से पानी छोड़ने की संभावना

अरपा भैंसाझार परियोजना से भी पानी छोड़ने की संभावना को देखते हुए अलर्ट जारी कर दिया गया है। विशेषकर मंगला, कुदुदंड, चांटापारा और गोंडपारा टीम तैनात कर मुनादी कराई गई है। चकरभाठा एयरपोर्ट के रनवे से भी मशीन से पानी खींचकर बाहर किया गया।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close