बिलासपुर। Paddy Selling in Chhattisgarh: समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की तिथि और दाम को लेकर भाजपा ने आक्रामक रुख अख्तियार कर लिया है। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने दोटूक कहा कि एक नवम्बर से किसानों की धान समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू हो व 2500 के बजाय प्रति क्विंटल 2800 रुपये देने की मांग की है। कौशिक का कहना है कि भाजपा अभी सरकार से आग्रह कर रही है। आग्रह न मानने की स्थिति में प्रदेशव्यापी धरना आंदोलन किया जाएगा।

नेता प्रतिपक्ष कौशिक गुरुवार को संभागीय भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। धान खरीदी के मुद्दे पर कहा कि सामने दीवाली का त्योहार है। किसान जिन्होंने जल्दी पकने वाले धान की फसल ली है, मिसाई कर त्योहारी खर्च के लिए बेच भी रहे हैं। राज्य सरकार को अन्नदाता किसानों की जरा भी चिंता नहीं है। एक नवंबर के बजाय एक महीना विलंब से एक दिसंबर से धान खरीदी का एलान कर दिया है। मतलब साफ है, राज्य सरकार को किसानों की जरा भी चिंता नहीं है। किसानों को कोचियों के रहमों कर्म पर छोड़ दिया है। सामबे त्योहार है। कुसान धान वेच्जर ही त्योहार मनाएंगे। ये अन्नदाताओं की मजबूरी है कि कोचियों को ओने पौने कीमत पर धान बेचेंगे। कोचिये भी अपनी मर्जी और अपनी कीमत पर धान खरीद रहे हैं।

सरकार नही मानेगी तो उग्र आंदोलन होगा

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने दो टूक कहा कि किसानों के हित में हम राज्य सरकार से आग्रह कर रहे हैं। सरकार नहीं मानी तो प्रदेशभर में उग्र आंदोलन करेंगे। तब इसकी पूरी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

गिरदावरी के नाम पर रकबा कम करने की साजिश

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि राज्य सरकार गिरदावरी के नाम पर किसानों का रकबा कम करने की साजिश रच रही है। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि केंद्र सरकार ने धान का समर्थन मूल्य बढ़ा दिया है। इसलिए राज्य के कुसानो को प्रति क्विंटल 2800 रुपये देने की बात कही है। प्रेस कांफ्रेंस में प्रदेश प्रवक्ता भूपेंद्र सवन्नी,विधायक रजनीश सिंह,जिलाध्यक्ष रामदेव कुमावत,कोषाध्यक्ष गुलशन ऋषि उपस्थित थे।

भाजपा नेताओं ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

पत्र वार्ता के बाद नेता प्रतिपक्ष कौशिक के नेतृत्त्व में कलेक्टोरेट रवाना हुए। भाजपा नेताओं ने मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।

कस्टम मिलिंग का कोटा नहीं कर पाई पूरा

राज्य सरकार कस्टम मिलिंग का लक्ष्य भी पूरा नही कर पा रही है। 24 लाख मिट्रिक टन धान नहीं दे पाई है। केंद्र सरकार द्वारा कस्टम मिलिंग का चावल लेने से मना करने के सवाल पर नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि बीते वर्ष राज्य सरकार ने 28 लाख मिट्रिक टन चावल भारतीय खाद्य निगम के जरिये केंद्र सरकार को चावल जमा नहीं कर पाई थी। 24 लाख मिट्रिक टन चावल अब तक जमा नहीं की है। राज्य सरकार में काम करने की क्षमता नहीं है और केंद्र सरकार पर दोषारोपण कर रही है।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local