बिलासपुर। करीब एक महीने के बाद कोरोना की तीसरी लहर कमजोर पड़ने लगी है। ऐसे में कोरोना नियंत्रण ने रफ्तार पकड़ ली है। शुक्रवार को जिले में 200 नए मरीजों की पहचान की गई है। इसके अलावा किसी भी संक्रमित की मौत नहीं हुई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जिले में कोरोना की तीसरी लहर की शुरुआत 27 दिसंबर से हुई है। इसी दिन से संक्रमण बढ़ता गया। जनवरी के पहले सप्ताह से इसने रफ्तार पकड़ी।

लेकिन अब करीब एक महीने के बाद महामारी पर लगाम लगने लगी है। विभाग का कहना है कि वायरस धीरे-धीरे कमजोर होता जा रहा है। ऐसे में कोरोना नियंत्रण में और भी तेजी ला दी गई है। शुक्रवार को शहरी क्षेत्र अंतर्गत सबसे ज्यादा मामले रेलवे परिक्षेत्र से सामने आए हैं। इसके अलावा हेमूनगर, नेहरू नगर, मंगला, विनोबा नगर, राजकिशोर नगर, तोरवा, मंगला, गोल बाजार परिक्षेत्र में अन्य क्षेत्रों की अपेक्षा ज्यादा मरीजों की पहचान की गई है। वहीं, ग्रामीण क्षेत्र में भी मामले कम होते जा रहे हैं।

इससे ग्रामीण क्षेत्रों के रहवासियों को राहत मिलने लगी है। गिरते आंकड़ांे पर गौर किया जाए तो 24 जनवरी 161, 25 को 306, 26 को 156, 27 को 144 और 28 जनवरी को 200 मरीज मिले हैं। इन सब के बीच सप्ताह भर में गिरावट दर्ज की जा रही हैं।

इस तरह मिल रहे मामले

22 जनवरी - 315

23 जनवरी - 243

24 जनवरी - 161

25 जनवरी - 306

26 जनवरी - 156

27 जनवरी - 144

28 जनवरी - 200

फरवरी में काबू में आ सकती है महामारी

सीएमएचओ डा. प्रमोद महाजन का कहना है कि वायरस लगातार कमजोर होता जा रहा है। यदि सब कुछ सही रहा तो फरवरी माह में महामारी पूरी तरह से काबू में आ जाएगी। उन्होंने जिलेवासियों को कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की समझाइश दी है।

बिना लक्षण वाले भी हो रहे संक्रमित

एक बार फिर बिना लक्षण वाले कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं। इसकी जानकारी तब लगी है जब कोरोना पाजिटिव के संपर्क में आने वालों की जांच होती है। इनमें वायरस तो मिल रहा है, लेकिन वे पूरी तरह से स्वस्थ होते हैं। हालांकि उन्हें कोरोना प्रोटोकाल के तहत दवाओं का सेवन करना पड़ रहा है।

एनटीपीसी अब भी संवेदनशील

मौजूदा स्थिति में कुछ अस्पताल के साथ ही सीपत एनटीपीसी संक्रमण को लेकर बेहद संवेदनशील बना हुआ है। वहां लगातार दो सप्ताह से मरीज मिल रहे हैं। जहां अब तक 100 से ज्यादा पाजिटिव मिल चुके हैं। इसी तरह अस्पतालों में सिम्स, जिला अस्पताल और अपोलो में भी मरीज मिल रहे हैं।

पूरा परिवार आ रहा चपेट में

शहर क्षेत्र में चिंता की बात यह भी है कि किसी के संक्रमित होने पर कुछ ही दिनों में उसका पूरा परिवार चपेट में आ जाता है। मौजूदा स्थिति में जिले के 50 से ज्यादा परिवारों के कई सदस्य संक्रमित हैं।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local