बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। गुस्र्वार की सुबह से दुर्गा विसर्जन का दौर शुरू हुआ। विसर्जन झांकी को देखने के लिए शहर के लोगों में खासा उत्साह व उमंग नजर आया। विसर्जन के लिए निकली समितियों के सदस्य डीजे, बैंड और ढोल-ताशे की आवाज में झूमते रहे। जैसे-जैसे शाम हुई, नयनाभिराम मां की प्रतिमाएं और मनमोहक झांकियां देखने के लिए लोगों का उत्साह बढ़ता गया। शाम को वर्षा के बाद भी लोगों का उत्साह कम नहीं हुआ। रात होते ही गोल बाजार से सिटी कोतवाली चौक होते हुए अरपा नदी के पचरी घाट तक भीड़ जुटने लगी। वहीं, रात 11 बजे से ढोल-तासे, डीजे, बैंड बाजे की धुन पर झांकियों व मां दुर्गा प्रतिमा की विसर्जन झांकी की शुरुआत हुई।

सिम्स चौक से सभी दुर्गोत्सव समितियों की झांकियां व मां दुर्गा की प्रतिमाएं बारी-बारी से निकलने का सिलसिला शुरू हुआ। ऐसे में नयनाभिराम झांकियों को देखने के लिए श्रद्धालु रातभर जागते रहे। माता की मनमोहक व आकर्षक प्रतिमाओं की आरती व स्वागत कर सभी ने माता का आशीर्वाद लिया। सिम्स चौक से विसर्जन झांकी की शुरुआत हुई जो पचरीघाट पहुंचकर समाप्त हुई। इसके बाद माता की प्रतिमाओं का विसर्जन विधि-विधान से किया गया।

प्रमुख दुर्गोत्सव समितियों द्वारा जीवंत व चलित झांकी का प्रदर्शन किया गया। बाजे-गाजे के साथ रंगीन लाइट व सजावट लोगों के आकर्षण का केंद्र बने रहे। झांकियों को देखकर लोग भाव-विभोर हुए। इस दौरान खास तौर पर रावत नाच, पंथी नृत्य दल व अन्य नर्तक दल ने भी अपने मनमोहक नृत्य से विसर्जन समारोह का और भी खास बना दिया। पूरी रात हजारों लोग इस मनमोहक विसर्जन कार्यक्रम व मनोहारी मांग दुर्गा के प्रतिमाओं का दर्शन करते रहे।

सुबह पांच बजे तक चला विसर्जन समारोह

सिम्स चौक से शुरू हुई विसर्जन झांकी सदर बाजार, गोल बाजार, जूना बिलासपुर, हटरी चौक होते हुए विसर्जन स्थल पचरीघाट पहुंची। रातभर शहर का भ्रमण करने के बाद सुबह पांच बजे मां दुर्गा की प्रतिमाओं का विसर्जन क्रमबद्ध होकर किया गया। लोग विसर्जन झांकियों को कुछ लोग घरों की छत से तो कुछ दोस्तों के साथ टोलियों में दर्शन के लिए पहुंचे।

मेले जैसा रहा माहौल

विसर्जन व झांकियों को देखने हजारों की संख्या में लोग पहुंचे। ऐसे में सिम्स चौक से पचरी घाट तक पूरे रास्ते में इतनी भीड़ रही कि इस आयोजन ने मेले का स्वरूप ले लिया। जहां लोग सुंदर झाकियां देखने के साथ ही मां के दर्शन करते हुए सड़क पर लगाए गए व्यजनों को भी मजा लेते रहे।

झांकियों में मां के शक्ति रूप का प्रदर्शन

निकली नयनाभिराम झांकियों में मां के शक्ति रूप के प्रदर्शन भी किया गया। मां की सुंदर व विहंगम प्रतिमाओं ने भक्तों को भाव विभोर कर दिया। अपनी सवारी शेरों के साथ शक्ति का प्रतीक को मां ने चरितार्थ किया। वहीं, कई झांकियों में देश के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का भी प्रदर्शन किया गया। इसमें वीर महाराजा शिवाजी से लेकर सुभाषचंद्र बोस, बापू व अन्य स्वतंत्रता संग्राम विभूतियों की झांकियों ने भी मन मोह लिया।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close