बिलासपुर । समर कैंप से शारीरिक ,मानसिक विकास हो रहा है। उक्त बातें मुंगेली कलेक्टर डा गौरव सिंह ने शालेय विद्यार्थियों के लिए आयोजित समर कैंप में कही।

जिले के शासकीय और अशासकीय विद्यालयों के विद्यार्थियों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए जिला मुख्यालय स्थित स्वामी आत्मानंद इंग्लिश स्कूल दाऊपारा में समर कैंप में आयोजित किया जा रहा है। कलेक्टर डा. सिंह ने स्कूल पहुंचकर समर कैैंप का जायजा लिया और इसमें शामिल होने वाले विद्यार्थियों और प्रशिक्षकों को मार्गदर्शन दिया। इस अवसर पर कलेक्टर डा. सिंह ने कहा कि समर कैंप से बच्चों का प्रतिभा निखरकर सामने आएगी। इसमें प्रशिक्षणार्थियों को किसी भी प्रकार की असुविधा नहीं हो। उन्हें सीखने का पूरा अवसर मिले। उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों के लिए साउंड सिस्टम और जनरेटर की भी व्यवस्था करने के निर्देश दिए। कैंपशासकीय में विद्यार्थियों को स्पोकन इंग्लिश, ड्राइंग-पेंटिंग, ताइक्वांडों, पाककला, फनी क्राफ्ट मेकिंग, क्ले पाटरी मेकिंग, वेस्टर्न डांस, योगा एवं बास्केटबाल , बैडमिंटन के अलावा हारमोनियम, गिटार वादन आदि का भी प्रशिक्षण देने की बात कही। इस अवसर पर अपर कलेक्टर तीर्थराज अग्रवाल, संयुक्त कलेक्टर नवीन भगत, डीएमसी वाचस्पति सिंह, प्राचार्य आइपी यादव सहित बड़ी संख्या में प्रशिक्षणार्थियों और प्रशासनिक और स्कूली बच्चे उपस्थित थे।

स्कूल में दो संकुलों के शिक्षकों को दिया गया बचाव का प्रशिक्षण

दगौरी। प्राकृतिक आपदा आदि से निपटने के लिए शासन एवं समग्र स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार तीन दिवसीय मुख्यमंत्री शाला सुरक्षा एवं प्रबंधन योजना अंतर्गत शाला सुरक्षा एवं व्यक्तिगत सुरक्षा प्रशिक्षण दिया गया। इसमें सुरक्षा के उपाए बताए गए। शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला भवन दगौरी में संकुल केंद्र दगौरी और संकुल मुरकुटा संयुक्त रूप से शिक्षक भाग लिए। प्राचार्य संकुल प्रभारी टीएस टेकाम, संजय कौशिक के निर्देश में नियुक्त मास्टर ट्रेनर अनिल कुमार तिवारी एवं संकुल दगौरी के राकेश शुक्ला के द्वारा 16 जून से बच्चों के स्कूल आने के पूर्व शाला भवन की रख रखाव एवं उसकी पूर्ण स्वछता के साथ आपदा प्रबंधन के तरीके को समझाया गया। दोनों संकुल दगौरी और मुरकुटा के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। इसके अंतर्गत लैंगिक शोषण , शाला में शिक्षकों, बच्चों और समुदाय के द्वारा आपदा आने के पूर्व और बाद उससे किस प्रकार निपटें। इसकी तैयारी किस प्रकार की हो। जैसी कई बातों का प्रशिक्षण दिया गया। मास्टर ट्रेनरों ने बचाव के तरीके को प्रदर्शन करके दिखाया। प्रशिक्षण के अंतिम समापन दिवस में जिला पंचायत के सभापति संदीप यादव, सरपंच घनश्याम गीता कौशिक , शाला विकास एवं प्रबंधन समिति के अध्यक्ष दशरथ सन्नाट गंगा प्रसाद निर्मलकर अन्य उपस्थित रहे।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close