बिलासपुर। Protest in Bilaspur: कांग्रेस नेता व स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के कट्टर समर्थक पंकज सिंह के खिलाफ अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम (एट्रोसिटी) के तहत कार्रवाई की मांग को लेकर गुरुवार को जिला पंचायत सदस्य राजेश्वर भार्गव के नेतृत्व में सतनामी समाज के लोग एसपी कार्यालय और कलेक्टोरेट का घेराव कर दिया।

समाज प्रमुखों ने पंकज की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की है। समाज के पदाधिकारियों में कोतवाली पुलिस पर गंभीर प्रकरण को जानबूझकर सामान्य धाराओं के तहत अपराध दर्ज करने का आरोप लगाया है।

सिम्स के एमआरआइ तकनीशियन तुलाराम टांडे के साथ पंकज सिंह द्वारा की गई मारपीट की घटना ने तूल पकड़ लिया है।

इसके अलावा अब इसमें जमकर राजनीति भी हो रही है। सतनामी समाज ने आरोप लगाया है कि सिम्स कर्मी अनुसूचित जाति वर्ग से आते हैं। पुलिस को इस बात की जानकारी पूर्व से ही है। जब कोतवाली थाने में पंकज के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई थी उस वक्त भी बताया गया था।

अचरज की बात ये कि इसके बाद भी एट्रोसिटी एक्ट के तहत कार्रवाई नहीं की गई है। एसपी व कलेक्टर को सौंपे पत्र में कहा है कि पंकज सिंह की छवि आपराधिक प्रवृत्ति की रही है। जल्द गिरफ्तारी ना होने की स्थिति में पीड़ित सिम्स कर्मचारी के जान को खतरा बना रहेगा।

समाज ने उठाए सवाल

सिटी कोतवाली में अपराध दर्ज होने के बाद भी जब समर्थकों के साथ शहर विधायक शैलेष पांडेय हंगामा मचा रहे थे उस वक्त पंकज सिंह भी थाने में मौजूद थे। पुलिस ने उनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं की। एफआइआर दर्ज होने के बाद जब थाने में पहुंचकर हंगामा मचा सकते हैं तब सिम्स कर्मचारी के साथ घटना की रात कैसा सुलूक किया गया होगा, समझा जा सकता है।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local