बिलासपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग (पीएससी) द्वारा भृत्य के कुल 91 पदों में भर्ती के लिए रविवार को लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया। न्यायधानी के 57 परीक्षा केंद्रों में 17,489 प्रतियोगियों ने पर्चा हल किया। परीक्षा केंद्र से बाहर निकलने के बाद उनके चेहरे खिले हुए थे, कहा कि बहुत सरल पर्चा था। रतनपुर में किस प्रसिद्ध देवी का मंदिर है? प्रसिद्ध जलाशय खूंटाघाट प्रदेश के किस जिले में स्थित है। राउत नाच नृत्य कब किया जाता है? जैसे प्रश्न पूछे गए थे।

आयोग द्वारा प्रथम पाली में दोपहर 12 से दो बजे तक परीक्षा आयोजित की गई। इसमें 21,552 प्रतियोगी पंजीकृत थे। जिनमें 17,489 ने पर्चा हल किया। वहीं 4,063 अनुपस्थित थे। परीक्षा पूर्व केंद्रों में प्रवेश से पहले कड़ी जांच पड़ताल की गई। प्रवेश के दौरान कई छात्र पहचान पत्र की फोटोकापी लेकर पहुंचे थे। जिन्हें प्रवेश रोक दिया गया। आनन-फानन में कुछ प्रतियोगियों ने व्यवस्था कर मंगवाया। कुछ वंचित हो गए। जबकि आयोग ने स्पष्ट कर दिया कि आधार, पेन कार्ड-पासपोर्ट-स्कूल आदि का ओरिजनल आईडी प्रस्तुत करना होगा। परीक्षा केंद्र से बाहर निकलने वाले प्रतियोगी खुश थे तो वहीं कुछ निराश भी हुए। खासकर जिनकी गणित अच्छा नहीं थी, उनका कहना था कि छत्तीसगढ़ के परिवेश में अधिकांश प्रश्न पूछ गए थे। जबकि गणित का हिस्सा कठिन था।

आयोग के सदस्य ने किया निरीक्षण

परीक्षा के दौरान छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग के सदस्य डा. एमआइ बाचकर ने विभिन्न् परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण किया। लिंक रोड स्थित कौशलेंद्र राव विधि महाविद्यालय में भी निरीक्षण किया। जहां सीसीटीवी से लेकर पंखा, शौचालय, विद्युत व्यवस्था सबकुछ दुरुस्त मिले। परीक्षा के दौरान किसी भी केंद्र से शिकायत व नकल का एक भी प्रकरण दर्ज नहीं हुआ।

10 प्रमुख प्रश्नों से समझें प्रश्नपत्र

01 अम्मठ का अर्थ क्या है।

02 खटिया उसलना का मतलब क्या है।

03 टेटका व लउहा का अर्थ बताओ।

04 गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ को राज्य का प्रतीक कब बनाया गया।

05 रात के बचे हुए भात में पानी मिलाकर खाना।

06 छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री कौन हैं।

07 फिल्म मोर छइंहा भुइंया के निर्माता-निर्देशक कौन हैं।

08 छत्तीसगढ़ी में चुटुर-चुटुर का अर्थ क्या है।

09 इड़हर क्या है। भिंडी के लिए छत्तीसगढ़ी शब्द है।

10 छत्तीसगढ़ी में अभिवादन के लिए शब्द है।

प्रतियोगियों ने साझा किया अनुभव

जरहाभाठा निवासी प्रतियोगी प्रीतेश सागर ने कहा कि पर्चा बहुत आसान था। छत्तीसगढ़ से संबंधित प्रश्नों की भरमार थी। जिन्हें छत्तीसगढ़ी नहीं आती होगी वे बुरे फंसे होंगे। सरकंडा निवासी और कौशलेंद्र राव परीक्षा केंद्र में पर्चा हल करने पहुंची पूनम पोपटानी का कहना था कि कुछ प्रश्न मुझे बहुत आसान लगे। जैसे कोविड-19 सर्वप्रथम कब आया। मारो फिरंगी को किसका नारा था। प्रतियोगी रमेश साहू का कहना था क्रिकेट, ओलंपियाड एवं राष्ट्रीय स्तर पर प्रश्न सरल थे। गणित और व्याकरण मुझे कठिन लगा।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close