बिलासपुर। Bilaspur News: पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल ने कहा कि देश की जनता ने कांग्रेस के विचारधारा को नकार दिया है। पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव परिणाम से यह साबित होता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व को देश की जनता ने सराहा है और भरोसा जताया है। पश्चिम बंगाल में हिंसा की राजनीति और स्थानीय अस्मिता के झूठे दिखावा करके तृणमूल कांग्रेस सत्ता में जस्र्र वापस आ गई है लेकिन बंगाल में भाजपा का दबदबा भी उसी अंदाज में बढ़ा है। इस बात से इन्कार नहीं किया जा सकता। पहली बार बंगाल में मजबूत विपक्ष नजर आ रहा है।

यह भाजपा के वैचारिक राष्ट्रवाद और प्रधानमंत्री मोदी के विाकस वाद की अवधारणा है। जिसे बंगाल सहित देश की जनता ने मन से स्वीकार किया है। बंगाल विधानसभा चुनाव परिणाम इस बात का संकेत है कि तृणमूल कांग्रेस का जनाधार खिसकने लगा है। तृणमूल पतन की ओर है। भाजपा तीन सीट से 80 सीट पर पहुंच गई है। नंदीग्राम में दीदी की हार ने दीदी के कथित लोक कल्याण और तृणमूल कांग्रेस की पोल को खोल कर रख दिया है। छद्म लोकतंत्र ज्यादा दिनों तक टिक नहीं सकता।

पूर्व मंत्री अग्रवाल ने कहा कि असम में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिला है। राज्य की सत्ता पर लगातार दूसरी मर्तबे काबिज हुई। प्रदेश की जनता ने भाजपा व प्रधानमंत्री पर भरोसा जताया है। यह भी साफ हो गया है कि कांग्रेस की विचारधारा को असम सहित देश की जनता से सिरे से खारिज कर दिया है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि असम विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री बघेल चुनाव संचालक की भूमिका में थे।

चुनाव प्रचार के दौरान उनके द्वारा असम में छग विकास माडल को पेश किया गया। छग में हो रहे विकास कार्यों का खाका भी पेश किया था। असम की जनता ने इसे खारिज कर दिया है। छग की जनता को भ्रम में डालकर रखने वाले सीएम बघेल के झांसे में असम की जनता नहीं आई। पांच राज्यों के चुनाव परिणाम से स्पष्ट हो गया है कि देश जल्द ही कांगे्रेसमुक्त होने वाला है। इन राज्यों में कांग्रेस का सुपड़ा साफ हो गया है। कांग्रेस के नेता और प्रवक्ता चुप्पी साधे बैठे हुए हैं।

टीकाकरण पर उठाए सवाल

पूर्व मंत्री अमर ने कहा छत्तीसगढ़ में जाति वर्ग आधारित टीकाकरण का कार्यक्रम के गैरतार्किक है। छत्तीसगढ़ सरकार के साथ ही कांगे्रसी नेताओं की कुत्सित मानसिकता सामने आ गई है। निजी केंद्रों पर टीके के विकल्प की सुविधा केंद्र सरकार की तरफ से दी गई है। पहली आवश्यकता सरकारों के द्वारा तय की गई प्रक्रिया का पालन करके टीका लगवाने की है। ताकि महामारी के प्रकोप से सभी को बचाया जा सके।

कोविड-19 ड्यूटी के दौरान कोरोना से संक्रमित होकर प्रदेश में 700 से अधिक शासकीय सेवकों की अकाल मौत पर को गंभीर चूक बताते हुए दिवंगतजनों को अपनी श्रद्धांजलि व्यक्त की एवं अपेक्षा की है कि दिवंगतजनों के आश्रितों को नियमानुसार बीमा भुगतान, अनुकंपा नियुक्ति,अकाल मृत्यु के संबंध में मुआवजा, दिवंगत कर्मियों के परिवार के सदस्यांे को गुजारे के लिए बेलआउट पैकेज छत्तीसगढ़ सरकार को बिना टालमटोल किये स्वयं के संसाधनों से तत्काल जारी करना चाहिए।

फ्रंटलाइन वर्कर में पत्रकारों को करें शामिल

पूर्व मंत्री अमर ने छत्तीसगढ़ सरकार से अपेक्षा की है कि प्रदेश के पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर में शामिल कर उनका अविलंब टीकाकरण कराना चाहिए ताकि समाज में महामारी उन्मूलन के लिए अपनी जान को जोखिम में डालकर प्रेरणात्मक लेखन के जरिए जागरूकता और कल्याण का कार्य करने वाले मीडिया संवर्ग बंधुगण को राहत मिल सके।

Posted By: sandeep.yadav

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags