बिलासपुर। जांजगीर—चांपा जिले के ग्राम पिहरीद में 60 फीट के बोरवेल में पांच दिनों तक फंसे राहुल को इलाज के लिए अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। राहुल की स्थिति अब पूरी तरह से सामान्य है। शनिवार को अपोलो से राहुल को डिस्चार्ज कर दिया गया। इस दौरान अस्पताल स्टाफ राहुल को छोड़ने के लिए उसके वाहन तक गया। राहुल साहू को 105 घंटे तक जिंदगी और मौत से जूझने के बाद 15 जून को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

इस दौरान उसके शरीर में कई जगहों पर घाव बन चुके थे। जख्म से खून में पहुंची बैक्टीरिया ने उसके शरीर में जबरदस्त हमला किया था। इसकी उसकी हालत गंभीर बनी हुई थी। डाक्टरों के इलाज राहुल अब पूरी तरह खतरे से बाहर आ चुका है। हालांकि डाक्टरों ने शुक्रवार को ही उसे छुट्टी देने का निर्णय लिया था, लेकिन स्वजन के कहने पर एक दिन और फिजियो थैरेपी और एक्सरसाइज के लिए रखा गया। वहीं शनिवार को उसके डिस्चार्ज करने की प्रक्रिया पूरी कर उसे सकुशल घर भेजा जाएगा।

चलती रहेगी एंटीबायोटिक दवाएं

राहुल की कल्चर रिपोर्ट में सिड्यूमोनस एरोजिनोसा नामक बैक्टीरिया की पहचान की गई थी। अब यह बैक्टीरिया खत्म हो चुकी है। अब डिस्चार्ज के बाद पांच दिनों तक राहुल को एंटीबायोटिक दवाएं दी जाती रहेंगी। साथ ही उसे विटामिन की आवश्यक दवाएं भी दी जाएंगी।

फिजियोथैरेपी का मिल रहा लाभ

डा. इंद्रा मिश्रा ने बताया कि राहुल की स्थिति पहले से काफी बेहतर है। एक्सरसाइज और फिजियोथैरेपी से उसका बाडी मूवमेंट करने लगा है। लेकिन, अभी भी थोड़े दिन और थैरेपी लेनी होगी। उन्होंने कहा कि कानों का टेस्ट किया गया है जिससे पता चला कि उसके सुनने की क्षमता भी ठीक है।

उन्होंने कहा कि मानसिक स्थिति भी ठीक है, लेकिन उम्र के हिसाब से रिएक्ट करने और समझने में दिक्कत होती है। डाक्टरों की राय है कि उसे रुचि के अनुसार संगीत में कुछ बेहतर कराना चाहिए, ताकि वह उसमें अपनी प्रतिभा दिखा सके। राहुल की मां और पिता को भी कहा गया है कि राहुल को संगीत सिखाया जाए।

मिलने पहुंचे आइजी डांगी

शुक्रवार की सुबह 10:30 बजे आइजी रतनलाल डांगी भी राहुल से मिलने अपोलो अस्पताल पहुंचे। उनके साथ उनकी पत्नी भी साथ रहीं। इस दौरान आइजी ने राहुल के बारे में डाक्टरों से सभी जानकारी प्राप्त की। उन्हें बताया गया कि वह अब पूरी तरह से ठीक हो चुका है। वहीं राहुल के डिस्चार्ज होने के बाद बिलासपुर और जांजगीर-चांपा एसपी को सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं, ताकि राहुल को उसके घर ले जाने में किसी तरह की बाधा न आए। साथ ही कहा गया कि भीड़ को नियंत्रित करें, क्योंकि बड़ी संख्या में राहुल को देखने व मिलने की कोशिश की जाएगी।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close