बिलासपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। अपोलो अस्पताल के साथ रेलवे का अनुबंध समाप्त होने जा रहा है। इससे रेल कर्मचारियों की परेशानी बढ़ गई। श्रमिक यूनियन के बाद अब स्वतंत्र रेलवे बहुजन कर्मचारी यूनियन ने इस पर चिंता जताते हुए महाप्रबंधक को ज्ञापन सौंपकर मांग की है कि अनुबंध का जल्द से जल्द नवीनीकरण कराया जाए ताकि बीमार कर्मचारियों की चिकित्सीय सुविधा प्रभावित न हो।

यूनियन के जोनल महामंत्री बीआर साह का कहना है कि विगत कुछ वर्षों से सरकार के द्वारा रेल कर्मचारियों की बहुत ही सुविधाएं एवं भत्तों पर कटौती की जा रही है। इसकी वजह से कर्मचारियों को आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है। इस बार स्वास्थ्य सुविधाएं प्रभावित की जा रही है जो कि बेहद चिंता का विषय है। रेल कर्मचारी एवं उनके आश्रित स्वास्थ्य लाभ के लिए रेलवे चिकित्सालय पर निर्भर हंै, परंतु रेलवे चिकित्सालय में अत्याधुनिक सुविधाओं की कमी है।

सहायक महामंत्री मनोज कुमार और मंडल सचिव शिव कुमार ने कहा कि सीटी स्केन, एमआरआइ, डायलिसिस, कैंसर की चिकित्सा सुविधा नहीं है। ऐसे कर्मचारियों को स्वास्थ्य लाभ देने के लिए रेल प्रशासन ने निजी चिकित्सालयों के साथ अनुबंध किया है। इसके तहत अपोलो अस्पताल के साथ अनुबंध है, जहां सैकड़ों कर्मचारी स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं , परंतु यह अनुबंध 26 जनवरी तक ही है।

इसके बाद अनुबंध समाप्त हो जाएगा। रेल प्रशासन नवीकरण को लेकर उदासीन रुख अपना रही है। इसके कारण उन सैकड़ों कर्मचारी के सामने गंभीर समस्या आ गई है जो वहां इलाज करा रहे हैं। इसे लेकर कर्मचारियों की चिंता बढ़ गई है। उनकी इसी परेशानी को देखते हुए यूनियन ने मांग की है। उनसे निवेदन किया गया कि यदि अपोलो अस्पताल में उनकी इलाज सुविधा बंद हो गई तो बीमार कर्मचारियों को बड़ी परेशानी होगी। इसका स्वास्थ्य पर भी असर पड़ सकता है।

Posted By: anil.kurrey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags