बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।Railway News Bilaspur: स्मृति वाटिका में पर्यटकों जल्द टायर ट्रेन की सुविधा मिलने वाली है। कंडम पड़ी दो डिब्बे की इस ट्रेन का संचालन करने के लिए कानन प्रबंधन ने डीएफओ से अनुमति मांगी है। प्रस्ताव में इस सुविधा से विभाग को होने वाले लाभ की जानकारी भी दी है। इसके साथ शुल्क का भी निर्धारण किया है। इसके तहत बच्चों को 20 रुपये और बड़े पर्यटकों को 30 रुपये देना होगा। भ्रमण का दायरा 3.5 किमी का होगा।

यह वाटिका वन विभाग की है। पर यहां पर्यटकों की संख्या ना के बराबर रहती है। इसके पीछे कई कारण है। प्रमुख रूप से पर्यटकों के लिए कुछ नया न होना है। इन्हीं कमियों को ठीक कर कानन प्रबंधन आय अर्जित करना चाह रहा है। वैसे भी जिस ट्रेन को चलाने की योजना बनाई गई है। उसमें इतनी तेज आवाज है कि जू में इसे चलाना असंभव है।

यही वजह है कि 11 साल से ट्रेन जू परिसर में कंडम पड़ी हुई थी। जिसे जू प्रबंधन थोड़ी बहुत मरम्मत कराकर चलने योग्य तैयार कर लिया है। इसे जू में न चलाकर स्मृति वाटिका में चलाने का निर्णय इसीलिए लिया गया है ताकि वहां पर्यटकों की संख्या बढ़े। पर्यटकों को वाटिका नई सुविधा मिल सके। इससे उनका रूझान भी बढ़ेगा। ट्रेन सुविधा से संबंधित एक प्रस्ताव बनाकर वनमंडलाधिकारी को भेजा गया है।

जिसमें शुल्क व भ्रमण दायरा के अलावा यह भी बताया गया है कि इससे पर्यटकों में स्मृति वाटिका में पूर्व में पूर्वजों की याद में रोपे गए पौधे के प्रति लगाव व रूचि जागृत होगी। पौधों के महत्व को समझेंगे। स्थानीय लोगों को रोजगार का अवसर भी प्राप्त होगा।

सबसे बड़ा फायदा सागौन प्लांटेशन की सुरक्षा में मिलेगा। इसके अलावा ट्रेन में स्थानीय विज्ञापन लगाने की सुविधा देकर प्रबंधन को आय भी प्राप्त होगा। आय बढ़ने से वाटिका में पर्यटकों के मनोरंजन की सुविधाएं बढ़ाई जा सकती है।

Posted By: anil.kurrey

NaiDunia Local
NaiDunia Local