बिलासपुर। जोनल स्टेशन के यात्री विश्रामगृह (रिटायरिंग रूम) में सालभर से बंद चार केबिन और एक कमरे की जल्द ही बुकिंग होने लगेगी। बार-बार पत्राचार के बाद रेलवे ने यहां होने वाली सीपेज की समस्या को ठीक कर रही है। इसकी जानकारी भी आइआरसीटीसी को दी गई। इसके आधार पर आइआरसीटीसी ने संचालक को इन्हें दोबारा व्यवस्थित करने के लिए कहा है, ताकि यात्रियों को किसी तरह असुविधा न हो।

स्टेशन का यात्री विश्राामगृह थ्री- स्टार जैसा है। साज-सज्जा के साथ रंग-रोगन भी की गई है। इसके अलावा यात्रियों के लिए पर्याप्त सुविधाएं भी हंै। दरअसल इसका निर्माण पुणे की एक निजी कंपनी ने की है। हालांकि कोरोना की पहली लहर के साथ यह भी बंद हो गए। जब खुले तो डारमेट्री के चार केबिन की फाल सिलिंग गिरी हुई थी। इसके अलावा एक कमरे पर सीपेज के कारण अस्त-व्यस्त हो गया था।

दरअसल यात्री विश्रामगृह जोनल स्टेशन की जिस बिल्डिंग में है वह बहुत पुरानी है। इसके चलते सीपेज की समस्या भी है। केबिन व कमरे की यह दुर्दशा सीपेज के कारण ही हुई है। संचालक ने साफ कह दिया कि जब सीपेज की समस्या दूर नहीं होगी, वह दोबारा मरम्मत व संवारने का काम नहीं करेगा। क्योंकि खर्च करने के बाद सीपेज से पहले की तरह समस्या आ सकती है। लिहाजा आइआरसीटीसी ने रेलवे को पत्र लिखा।

पहली बार में संबंधित विभाग ने औपचारिकता की। इसलिए सीपेज की समस्या दूर नहीं हुई। तीसरे बार में अब जाकर अव्यवस्था दूर हुई। आइआरसीटीसी जांच भी कर चुकी है। सब कुछ सही होने के बाद उन्होंने संचालक को बुलाया है, ताकि यह व्यवस्थित हो सके और बंद केबिन व कमरे की बुकिंग की सुविधा यात्रियों को मिल जाए।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local