बिलासपुर। स्वास्थ्य विभाग ने डायरिया की आशंका को लेकर सर्वे शुरू कर दिया है। मालूम हो कि वर्षा ऋतु में हर बार शहर के कई क्षेत्रों में डायरिया का प्रकोप देखने को मिलता है। ऐसे में डायरिया फैलने से रोकने के लिए यह सर्वे किया जा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग डायरिया उन्मूलन पखवाड़ा के तहत काम कर रहा है। इसके तहत शहर के मलिन क्षेत्र के साथ ऐसे मोहल्ले जहां हर बार डायरिया के मरीज मिलते हैं, वहां पर सर्वे कार्य शुरू कर दिया गया है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के स्वास्थ्य कार्यकर्ता और क्षेत्र की मितानिनों के द्वारा घर-घर सर्वे किया जा रहा है और डायरिया के संभावित मरीज खोजे जा रहे हैं। साथ ही आवश्यक दवाओं का वितरण किया जा रहा है।

सर्वे के तहत शहर अंतर्गत तालापारा, तारबाहर, टिकरापारा, सिरगिट्टी, हेमूनगर, अटल आवास, तिफरा आदि क्षेत्रों में टीम पहुंची है। स्वास्थ्य विभाग की मंशा है कि यदि कहीं भी डायरिया फैलने की आशंका बन रही है तो उसे खत्म किया जा सके, ताकि इसके गंभीर परिणाम सामने न आए। इसके तहत सात जून तक सर्वे चलेगा और टीम हर घर पहुंचकर डायरिया के मरीज खोजने का काम करेगी।

तालापारा है बेहद संवेदनशील

डायरिया को लेकर तालापारा क्षेत्र को बेहद संवेदनशील की सूची में रखा गया है। पिछले साल यहां पर दूषित पानी पीने की वजह से डायरिया फैला था। लगभग 400 से ज्यादा लोग डायरिया से संक्रमित हुए थे और छह की मौत हुई थी। इन बातों को ध्यान में रखकर तालापारा क्षेत्र में विशेष अभियान चलाया जा रहा है और डायरिया को लेकर लोगों को जागरूक करने का काम किया जा रहा है।

अस्पताल में आने लगे मामले

सिम्स और जिला अस्पताल में उल्टी, दस्त के मामले सामने आने लगे है। इसे डायरिया से जोड़कर देखा जा रहा है। हर साल वर्षा ऋतु की शुरूआत में उल्टी, दस्त के मरीज बढ़ते है। ध्यान नहीं देने के दशा में इसके मामले बढ़ने की आशंका भी अधिक रहती है। ऐसे में जिन भी क्षेत्र से मरीज अस्पताल पहुंच रहे है। वहां पर भी सर्वे टीम को भेजा जा रहा है।

ऐसे बचें डायरिया से

- बाहर के भोजन का सेवन न करें।

- साफ पानी का सेवन करें।

- हो सके तो पानी को उबालकर पीएं।

- उल्टी, दस्त की समस्या हो तो तत्काल डाक्टर से परामर्श लें।

- गंदगी वाली जगहों पर जाने से बचें और साफ सफाई पर ध्यान दें।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close