बिलासपुर।Bilaspur News : राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ(आरएसएस) व विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण से प्रत्येक देशवासियोें को जोड़ने की योजना बनाई है। लोगों को जोड़ने के साथ ही मंदिर निर्माण में उनसे अंशदान भी लेंगे।

छत्तीसगढ़ में 55 लाख लोगों से सीधे संपर्क करेंगे व सहयोग राशि लेंगे। विहिप व आरएसएस के नीति निर्धारक संस्था ने सहयोग राशि को लेकर भी महत्वपूर्ण निर्देश जारी किया हैं 10 स्र्पये से लेकर यह राशि देने वालों के ऊपर निर्भर करेगा कि वे राम मंदिर निर्माण के लिए स्वेच्छानुसार कितनी राशि देना चाहते हंै।

विहिप के नीति निर्धारक संस्था ने अयोध्या में निर्माणाधीन राम मंदिर के स्वस्र्प में थोड़ा बदलाव कर दिया है। पूर्व के ड्राइंग डिजाइन के अनुसार एक और फ्लोर का निर्माण करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए सहयोग राशि की जस्र्रत पड़ेगी।

संस्था से जुड़े आराएसएस और विहिप के प्रमुख नेताओं की मीटिंग में यह तय किया गया है कि मंदिर निर्माण में लोगों का सीधा जुड़ाव हो और सहयोग निधि भी इकठ्ठा हो जाए। रणनीतिकारों ने इसका नाम सहयोग निधि एकत्रिकरण दिया है।

राशि एकत्रिकरण में किसी तरह की कोई गड़बड़ी ना हो और राशि एकत्रित हो जाए इसके लिए रसीद बुक भी छपाने का निर्णय लिया है। रसीद बुक में सहयोग करने वालों का पूरा नाम,पता,मोबाइल नंबर भी नोट किया जाएगा। सहयोग के रूप में दी जाने वाली राशि का उल्लेख भी रसीद बुक में रहेगा

इस अभियान की मानिटरिंग विहिप के दिग्गज नेता करेंगे। इसके लिए प्रदेश स्तरीय समिति बनाई जाएगी। समिति में विहिप के प्रमुख नेताओं के अलावा आरएसएस के दिग्गज नेताओं को शामिल किया जाएगा। नए साल के पहले दिन से इस अभियान की शुस्र्आत करने का निर्णय लिया गया है।

0 संघ्ा के सभी प्रकल्पांे के अलावा भाजपाई भी आएंगे नजर

राम मंदिर निर्माण सहयोग निधि एकत्रिकरण के कार्य में विहिप व संघ के सभी अनुषांगिक संगठनों की भी सहभागिता रहेगी। अनुषांगिक संगठनों के काम लेने की जिम्मेदारी प्रकल्प से जुड़े पदाधिकारियों की होगी। भाजपा भी इस कार्य में प्रत्यक्ष रूप से सहयोग देगी। भाजपा के अलावा अनुषांगिक संगठन भी इसमें बढ़चढ़कर हिस्सा लेगा।

0 जागृति मंडल में महत्वपूर्ण बैठक

राम मंदिर निर्माण कार्य से प्रदेशवासियों को प्रत्यक्ष रूप से जोड़ने के लिए सोमवार को रायपुर स्थित जागृति मंडल में विहिप,आरएसएस व भाजपा के प्रमुख नेताआंे की महत्वपूणर््ा बैठक होगी। इस दौरान महत्वपूणर््ा निर्णय लिया गया है कि सहयोग निधि एकत्रिकरण कार्य की निगरानी विहिप करेगा। विहिप के दिशा निर्देश पर ही कार्य का संचालन होगा।

Posted By: sandeep.yadav

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस