बिलासपुर। जिले में सरकारी विभाग में काम करने वाले कर्मचारियों की असमय मौत होने के बाद उनके स्वजन को अनुकंपा नियुक्ति दी जाएगी। जिला प्रशासन ने सभी आश्रितों से दस्तावेज जमा करने के लिए कहा गया। आरश्रितों ने अपने-अपने संबंधित विभागों में सारे दस्तावेज जमा कर रहे हैं। इन दस्तावेजों की जांच के लिए कमेटी बनाई गई है। कमेटी के सदस्य दस्तावेजों की जांच करेंगे। इसके बाद समय से पहले आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दी जाएगी।

जिले के अंतर्गत दिवगंत शासकीय सेवक के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति देने के लिए प्रस्तुत आवेदनों व दस्तावेजों का समान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी नियमों के अनुरूप परीक्षण किया जा रहा है। मस्तूरी विकासखंड के प्राथमिक शाला दलदली के दिवगंत शासकीय सेवक अंजोर दास मोहले के आश्रित उनकी पत्नी सरिता बाई की नियुक्ति के लिए आवेदन प्राप्त हुआ है। इसी प्रकार सहायक शिक्षक के पद पर कार्यरत दिवगंत शासकीय सेवक स्व. मुरलीधर सिंह के आश्रित परिवार के सदस्य कोटा के बिरगहनी गांव के रहने वाली सावित्री बाई का आवेदन जमा हो चुका है।

दिवगंत शासकीय सेवक सहायक शिक्षक स्व. कपिलनाथ आर्मो के परिवार से चपोरा गांव के रहने वाली मीरा आर्मो ने अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवेदन किया है। इसी प्रकार उच्च श्रेणी शिक्षक के पद पर कार्यरत दिवगंत शासकीय सेवक स्व. मनोज कुमार भारद्ववाज के परिवार से मस्तूरी के ग्राम ध्रवाकारी के रहने वाले एम लिंकन भारद्ववाज ने अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवेदन किया है। इसी प्रकार भृत्य के पद पर कार्यरत शासकीय सेवक स्व. संपत सिंह की मृत्यु पर कोटा के टेंगनमाड़ा के रहने वाले पुत्र यशवंत कुमार ने अनुकंपा नियुक्ति के लिए आवेदन किया है।

जिला शिक्षा अधिकारी डीके कौशिक ने आम जनता से अपील की है कि उपरोक्त दिवगंत शासकीय सेवकों के आश्रित परिवार में से किसी भी सदस्य के केंद्र या राज्य के शासकीय सेवा में कार्यरत होने की जानकारी मिलने पर तत्काल डाक के माध्यम से या स्वयं उपस्थित होकर जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय को अवगत कराएं।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close