बिलासपुर। अचानकमार टाइगर रिजर्व में प्रवेश शुल्क की पाबंदी का असर दिखने लगा है। शुल्क के कारण अब पहले की तरह वाहन नहीं गुजरते हैं। आलम यह है कि दिनभर में 15 या 20 वाहन मालिक इस मार्ग का उपयोग कर रहे हैं। जब सख्ती नहीं थी तब यहां से गुजरने वालों का आंकड़ा 200 से अधिक तक पहुंच जाता था। वाहनों का दबाव कम होने से वन्य प्राणी स्वतंत्र महसूस कर रहे हैं। सड़क किनारे वन्य प्राणियों की हलचल बढ़ी है। लगातार सड़क के दोनों तरफ के जंगल में विचरण करते दिखते हैं।

अचानकमार टाइगर रिजर्व के बीच से मुख्य मार्ग निकला हुआ। यह मार्ग लोक निर्माण विभाग का है। पर टाइगर रिजर्व के अंदर होने के कारण यहां प्रबंधन के नियम-कायदे चलते हैं। प्रबंधन इस मार्ग को बंद कराने के लिए काफी प्रयास किया। लेकिन उन्हें असफलता ही हाथ लगी। इसी बीच प्रविधानों का हवाला देते हुए प्रवेश शुल्क का नया नियम लागू कर दिया गया। इसके तहत कार से जाने पर 100 रुपये और मोटरसाइकिल से टाइगर रिजर्व में प्रवेश करने 50 रुपये शुल्क देना पड़ता है। इसकी रसीद भी दी जाती है। शुल्क की वजह से अब लोग टाइगर रिजर्व से गुजरना पसंद नहीं करते।

धीरे-धीरे इनका आंकड़ा घटकर 15 से 20 पर आ पहुंचा। जबकि नियम नहीं था, तब 200 से अधिक वाहन गुजरते थे। इसकी वजह से वन्य प्राणी प्रभावित होते थे। वाहनों की आवाज की वजह से वन्य प्राणी जंगल के अंदर दुबक जाते हैं। कई बार ऐसा हुआ है कि सड़क तक पहुंचने के बाद वाहन देख इधर-उधर भागने लगे। पर अब वन्य प्राणी स्वतंत्र होकर विचरण करते नजर आने लगे। यही वजह है कि सड़क किनारे घास भी लगाई गई है, ताकि वन्य प्राणियों को आहार मिलता रहे और इस मार्ग की वजह से वह प्रभावित न हो।

ये भी फायदे

पर्यावरण सुरक्षित: वाहनों की आवाजाही का असर वन्य प्राणियों के साथ-साथ टाइगर रिजर्व के पर्यावरण पर भी पड़ रहा था।

शिकार पर रोक : शिकारियों पर काफी हद तक शिकंसा कसा जा सकता है। संख्या कम होने से जरा भी विपरीत मूवमेंट होने पर पता चल जाएगा।

वन्य प्राणी सुरक्षित: वाहनों के दबाव से सबसे ज्यादा खतरा वन्य प्राणियों को था। अक्सर वाहन की चपेट में आने से वन्य प्राणियों की मौत की घटना सामने आई है। इस पर अब विराम लगने लगा है।

प्रवेश शुल्क का नियम लागू करने से वाहनों की संख्या कम हुई है। दिनभर में 15 से 20 वाहन ही टाइगर रिजर्व के अंदर से गुजर रहे हैं। इसका सीधा असर वन्य प्राणियों पर पड़ा है। अब सड़क किनारे व इससे गुजरते हुए वन्य प्राणी रोज नजर आते हैं।

सत्यदेव शर्मा

डिप्टी डायरेक्टर, अचानकमार टाइगर रिजर्व

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close