Road Accident: बिलासपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कार में आगजनी की दुर्घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं। रतनपुर और जशपुर की दुर्घटना इतनी भयानक थी कि कार की हालत को देखकर कोई भी घबरा जाए। 48 घंटे के भीतर पांच लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। दो की हालत अब भी गंभीर है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए कार में कुछ चीजों को हमेशा साथ रखना चाहिए, ताकि आग लगने की स्थिति में जान बचाई जा सके। इसमें सबसे प्रमुख हथौड़ी को माना गया है।

रतनपुर-कोटा मार्ग स्थित पोंडी के पास शनिवार रात 1:30 बजे तेज रफ्तार कार सड़क किनारे पेड़ से टकरा गई। इसके बाद उसमें तेजी से आग लगी। कार में बैठे चार लोग जिंदा जल गए। एक ऐसी ही अन्य दुर्घटना में जशपुर में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि दो की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है। आपदा प्रबंधन विशेषज्ञों की मानें तो ऐसी घटनाएं चिंताजनक हैं। उनका मानना है कि कार में आग लगना एक हादसा है जो कभी भी किसी के भी साथ हो सकता है। इस स्थिति से बचने के लिए कार में हथौड़ी जरूर रखनी चाहिए। इसके अलावा संभव हो तो कैंची व अग्निशमन यंत्र भी रखना चाहिए। ताकि कैंची से तत्काल अपनी सीट बेल्ट को काटा जा सके। हथौड़ी से कार के शीशे को आसानी से तोड़ सकते हैं।

ये सावधानी बरतें

- नशा करने के बाद वाहन न चलाएं।

- कार की रफ्तार हमेशा नियंत्रण में रखें।

- कंपनी सर्विस सेंटर में ही सर्विसिंग कराएं।

- एलपीजी व सीएनजी लोकल किट न लगवाएं।

- फालतू एसेसरीज बिल्कुल न लगवाएं।

- बैटरी की जांच करें। समय पर बदलें।

- आग लगने पर पानी से न बुझाएं।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

कार चालक या उसमें यात्रा करने वालों को सबसे पहले यह ज्ञात होना चाहिए कि कार में जब भी आग लगती है तो सबसे पहले इलेक्ट्रिकल यूनिट जाम हो जाती है। इसके कारण पावर विंडो, सीट बेल्ट और सेंट्रल लाकिंग सिस्टम तक फेल हो जाता है। जिसके कारण कार में आग लगने पर उसमें बैठे सभी फंस जाते हैं। आग से पहले निकलने वाला धुंआ कार्बन मोनोआक्साइड गैस की चपेट में आ जाते हैं। जिससे बचने हथौड़ी एक सुरक्षित उपाय है।

संभागायुक्त एवं सिंगापुर से आपदा प्रबंधन पर विशेष प्रशिक्षण प्राप्त

डा.संजय अलंग

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close