Road Safety Campaign Bilaspur: बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। सड़क सुरक्षा को लेकर नईदुनिया ने अभियान चलाया है। हमने प्रदेश की उन सड़काें पर फोकस किया, जिसकी हालत खराब है। तकनीकी रूप से खराब सड़कों को लेकर जिम्मेदार अधिकारियों से चर्चा करना उनकी जिम्मेदारी तय करने के अलावा सफर के दौरान सड़क दुर्घटना में घायल या गंभीर रूप से घायल व्यक्ति की मदद करने के लिए आगे आने और जिम्मेदार नागरिक की भूमिका निभाने के लिए लोगों को जागरूक करने और अपने कर्तव्यों का पालन कराने की दिशा में भी हमारा प्रयास जारी है।

इसी कड़ी में नौ दिसंबर को शपथ लेने की तिथि तय की गई है। हम सब इस दिन सड़क सुरक्षा को लेकर शपथ लेंगे। साथ ही इसे प्रतिदिन अमल में लाने की हमारी कोशिश भी रहेगी। हमारी दिनचर्या में यह बात शामिल होनी चाहिए कि सफर के दौरान सुरक्षा को लेकर कही गई एक-एक बातों और एक-एक शब्दों को कार्यरूप में परिणीत करेंगे। मसलन दोपहिया वाहन में बैठने से पहले सिर पर हेलमेट जरूर पहनेंगे। तीन सवारी वाहन नहीं चलाएंगे और न ही किसी के साथ बैठेंगे।

चार पहिया वाहन चलाते वक्त ड्राइविंग सीट पर बैठने के तुरंत बाद सीट बेल्ट लगाना नहीं भुलेंगे। इन सबसे अलग सफर के दौरान सड़क पर अगर कोई घायल मिले या गंभीर रूप से घायल सड़क पर मदद के लिए तड़पते दिखाई दे तो वाहन रोककर उनकी मदद करेंगे। पास के अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचाएंगे। हमने यह कर लिया तो एक जान तो बचाएंगे ही एक परिवार को राहत देंगे। ऐसा हुआ तो वह परिवार मददगार की भूमिका निभाने वाले को हमेशा याद रखेगा।

सुरक्षित सफर के लिए यातायात विभाग द्वारा बनाए गए नियमों का पालन करना आवश्यक है। इसके लिए विभाग द्वारा की जाने वाली सख्ती का इंतजार मत करिए। नियम बनाने के पीछे तकनीकी और व्यवहारिक कारण होते हैं। नियमों कानून का पालन करेंगे तो हम सबका सफर आसान और सुरक्षित रहेगा। नईदुनिया का अभियान सराहनीय है। नौ दिसंबर का दिन भी महत्वपूर्ण है। यातायात के नियमों का पालन करने हम सबको शपथ लेनी चाहिए। शपथ एक औपचारिकता है। इसके पीछे एक जिम्मेदार नागरिक बनने की भावना छिपी हुई है। शपथ लेने के बाद हमने एक-एक शब्द पर अमल करना प्रारंभ कर दिया तो दुर्घटनाओं पर आसानी के साथ अंकुश लगेगा। हम सबकी कोशिश भी यही है।

डा. एसके अलंग, कमिश्नर बिलासपुर संभाग

दोपहिया वाहन चालकों के साथ ही चार पहिया वाहन चालकों को गंभीरता के साथ नियमों का पालन करना चाहिए। सड़क पर सुरक्षित सफर के साथ ही नियमों को अनदेखी नहीं करनी चाहिए। नियमों व शर्तों का पालन करेंगे तो हम सबका जीवन सुरक्षित रहेगा। दुर्घटनाएं नहीं होंगी। नईदुनिया की अभिनव पहल है। इस अभियान की गंभीरता हम सबको समझनी होगी। नौ दिसंबर को सुरक्षित यातायात के लिए हम सब शपथ लें। इससे हम अपने अलावा सफर कर रहे लोगों का जीवन तो बचाएंगे ही अपने स्वजन को खुशी भी देंगे। शपथ के बहाने एक जिम्मेदार नागरिक बनें और यातायात नियमों का गंभीरता के साथ पालन करें।

बीएन मीणा-पुलिस महानिरीक्षक,बिलासुर रेंज

सड़क सुरक्षा को लेकर हम सबको गंभीर रहना चाहिए। यातायात के नियमों का पालन करना हम सबकी की जिम्मेदारी बनती है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सफर के दौरान सड़क दुर्घटना में घायल होने वालों की तत्काल मदद करें। इसे अनदेखा न करें। हमारी एक मदद एक नहीं कई जिंदगी बचाती है तो राहत भी देती है। सफर के दौरान हमें मददगार की भूमिका में रहनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के गाइड लाइन का पालन करना भी जरूरी है। मददगारों को सम्मानित करने की योजना भी है। नईदुनिया द्वारा चलाए जा रहा अभियान सराहनीय है। नौ दिसंबर को यातायात के नियमों का पालन करने शपथ लें और एक जिम्मेदार नागरिक की भूमिका निभाएं। शपथ के पीछे हमारी अपनी जिम्मेदारी तय करनी है।

सौरभ कुमार-कलेक्टर

यातायात के नियमों के पालन के पीछे एक खास जिम्मेदारी हमारी बनती है। नियमों के पालन में हम गंभीरता बरतेंगे तो होने वाली दुर्घटना को रोकने में हम काफी हद सहायक बनेंगे। नियमों के परिपालन में सख्ती बरतने के बजाय हमें खुद ही अपनी जिम्मेदारी तय करनी होगी। कर्तव्य मानकर चलना होगा। दोपहिया वाहन चलाने से पहले हेलमेट पहनाना न भूलें। कार की ड्राइविंग सीट पर बैठते ही सीट बेल्ट जरूर लगाएं। घायलों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहें। इन्हीं सब बातों और कर्तव्यों की जानकारी देने और अपनी जवाबदारी खुद तय करने के लिए नईदुनिया ने नौ दिसंबर को शपथ का आयोजन किया है। हम सबको सुरक्षित सफर और यातायात के नियमों का पालन करने की शपथ लेनी होगी।

पारुल माथुर-वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बिलासपुर

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close