बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। गनियार में उसलापुर आरपीएफ की टीम ने छापामार कार्रवाई करते हुए टिकट दलाल को गिरफ्तार किया है। वह जनरल व आनलाइन स्टोर की आड़ में पसर्ननल यूजर आईडी से ई- टिकटों की हेराफेरी भी करता था। आरोपित के खिलाफ रेलवे अधिनियम की धारा 143 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है।

टिकट दलालों पर आरपीएफ की पैनी नजर है। उन्होंने मुखबिर से लेकर कर्मचारियों को इस तरह के लोगों पर नजर रखने का निर्देश भी दिया है। इसी के तहत गनियारी में सफलता मिली है। उसलापुर आरपीएफ चौकी प्रभारी व उप निरीक्षक एनपी मिश्रा बल सदस्यों के साथ गनियारी पहुंचे। सूचना के मुताबिक धनंजय जनरल व आनालाइन स्टोर में दबिश दी गई। उस समय संचालक धनंजय सूर्यवंशी निवासी आवास पारा गनियारी मौजूद था। आरपीएफ को देखकर उसके होश उड़ गए।

वह न तो भाग सका और न ही किसी तरह की चालाकी काम आई। आरपीएफ ने जांच शुरू कर दी। इस दौरान उसके मोबाइल खंगाले गए, जिसके जरिए उसने पर्सनल यूजर आईडी से टिकट बनाया था। इन टिकटों में 19 पुराने और चार आगामी दिनों के थे। पुष्टि के बाद संचालक को गिरफ्तार कर लिया गया। इस दौरान उससे पूछताछ करने पर बताया कि पर्सनल यूजर आईडी से बने टिकटो के बदले वह लोगों से 20 रुपये अतिरिक्त कमीशन लेता है।

जांच के दौरान प्रथम दृष्टया में संचालक रेलवे अधिनियम की धारा 143 का आरोपित पाया गया। इसलिए मौके पर कागजी प्रक्रिया पूरी करने के बाद टिकट दलाल को गिरफ्तार कर आरपीएफ उसलापुर रेलवे स्टेशन स्थित कार्यालय ले आई। हालांकि कार्रवाई के दौरान ही स्वजन पहुंच गए थे। उन्हें बताया गया कि यह जमानती अपराध है।

इसलिए जरुरी प्रक्रियाओं को पूरी कर आरपीएफ पोस्ट से उसे लेकर जा सकते हैं। लेकिन जब भी रेलवे न्यायालय के समक्ष प्रकरण पहुंचेगा, उसे न्यायालय पहुंचना ही पड़ेगा। आरोपित को मुचलके भी छोड़ दिया गया है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close