Bilaspur News: बिलासपुर। सेवा में वापस लिए जाने संबंधी स्कूल शिक्षा व सहकारिता मंत्री डा. प्रेमसाय सिंह के फर्जी लेटर पैड और हस्ताक्षर का उपयोग किए जाने के आरोप पर अंबिकापुर की कोतवाली पुलिस ने लखनपुर निवासी राजीव वर्मा के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध पंजीबद्ध किया है। आरोप है कि अनियमितता के कारण आरोपित को बर्खास्त किया जा चुका है। फिर से सेवा में लिए जाने संबंधी मंत्री का फर्जी हस्ताक्षर युक्त लेटर पैड उसने उप पंजीयक कार्यालय में जमा किया था। कांग्रेस के प्रदेश सचिव शैलेंद्र प्रताप सिंह की लिखित शिकायत के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। संपूर्ण प्रकरण की जांच की जा रही है।

पिछले दिनों उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं अंबिकापुर के कार्यालय में एक पत्र प्रस्तुत किया गया था। स्कूल शिक्षा व सहकारिता मंत्री डा. प्रेमसाय सिंह के लेटर पैड और हस्ताक्षर वाले इस पत्र के माध्यम से राजीव वर्मा को लखनपुर विकासखंड के कुन्न्ी सहकारी समिति का प्रभार संपूर्ण दस्तावेजों के साथ दिए जाने का उल्लेख था। चूंकि अनियमितता व भ्रष्टाचार के आरोप पर राजीव वर्मा को बर्खास्त किया जा चुका है इसलिए उप पंजीयक को यह पत्र संदिग्ध लगा।

उन्होंने कैबिनेट मंत्री डा. प्रेमसाय सिंह को वस्तु स्थिति से अवगत कराया। कैबिनेट मंत्री ने ऐसा कोई भी अनुशंसा नहीं किए जाने तथा प्रकरण की बारीकी से जांच किए जाने का निर्देश दिया था। उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं ने उक्त पत्र को लेकर कैबिनेट मंत्री के निजी सचिव को शासकीय पत्राचार किया। शासकीय तौर पर भी स्पष्ट हुआ कि ऐसा कोई पत्र जारी ही नहीं किया जाता। प्रथम दृष्टया पत्र फर्जी है इसलिए जांच कर आपराधिक प्रकरण दर्ज किए जाने का निर्देश दिया गया था। कांग्रेस के प्रदेश सचिव शैलेंद्र प्रताप सिंह को जब इस बात की जानकारी लगी तो उन्होंने सूचना के अधिकार के तहत पत्र की छाया प्रति प्राप्त की।

मूल दस्तावेजों के साथ उन्होंने कोतवाली अंबिकापुर में लिखित शिकायत दर्ज कराई। कोतवाली में दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक आरोपी राजीव वर्मा ने कैबिनेट मंत्री डा. प्रेमसाय सिंह के फर्जी लेटर पैड और हस्ताक्षर का उपयोग किया है। कूट रचना धोखाधड़ी के लिखित शिकायत के आधार पर कोतवाली पुलिस ने आरोपित के खिलाफ धारा 419, 420, 467 468 व 471 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर लिया है। मामले में एफआईआर दर्ज कराने कोतवाली पहुंचने वालों में कांग्रेस के प्रदेश सचिव शैलेंद्र प्रताप सिंह के अलावा पार्षद सतीश बारी, आलोक सिंह, राजन, धीरज गुप्ता, मोनू सिंघ्ाल साथ थे।

तीन सदस्यीय टीम कर रही है जांच

लखनपुर विकासखंड के कुन्नी सहकारी समिति में प्रबंधक के पद पर राजीव वर्मा पूर्व में पदस्थ था। उसके खिलाफ अनियमितता और गड़बड़ी की लगातार शिकायत सामने आ रही थी,जिस पर बर्खास्तगी की कार्रवाई की गई थी। शिकायतों की जांच सहकारिता विभाग की तीन सदस्यीय टीम कर रही है। ऐसी परिस्थिति में दोबारा संपूर्ण दस्तावेजों के साथ प्रभार दिए जाने संबंधी पत्र से ही संदेह हुआ था। जांच में स्पष्ट हुआ कि सेवा में वापसी के लिए कैबिनेट मंत्री के फर्जी लेटर पैड व हस्ताक्षर का इस्तेमाल किया गया है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags