बिलासपुर। स्थानीय उत्पादों को लोकप्रिय बनाने के उद्देश्य से वर्ष 2022-23 के केंद्रीय बजट में वन स्टेशन वन प्रोडक्ट योजना की घोषणा की गई थी। बिलासपुर रेलवे में इसे लेकर बेहतर काम हो रहा है। वर्तमान में रेल मंडल के बिलासपुर सहित कोरबा, जांजगीर-नैला, अनुपपुर, पेंड्रारोड़, उसलापुर, विश्रामपुर, शहडोल, कोतमा, सक्ती, अंबिकापुर, अकलतरा, चांपा, रायगढ़ समेत 14 स्टेशनों में स्थानीय उत्पादकों की बिक्री के लिए निश्शुल्क स्टाल लगाने की सुविधा दी गई है।

बिलासपुर स्टेशन में इस योजना की शुरुआत 25 मार्च से बेल मेटल से बनी कलाकृतियों का स्टाल से प्रारंभ हुआ था। यहां प्लेटफार्म एक में हर्बल उत्पाद की बिक्री का स्टाल संचालित है। जांजगीर-नैला स्टेशन के प्लेटफार्म एक पर 11 जून से धान के पैरा से बनी स्थानीय कलाकारों की हस्तशिल्प की प्रदर्शनी व बिक्री का स्टाल लगाया गया। कोरबा स्टेशन 10 जून से स्थानीय हर्बल उत्पाद की बिक्री व प्रदर्शनी का स्टाल लगा है। इसी तरह अनूपपुर , पेंड्रारोड़, उसलापुर , विश्रामपुर , शहडोल, कोतमा , अंबिकापुर, अकलतरा व चांपा के अलावा रायगढ़ स्टेशन स्टाल सजा है।

स्टालों का संचालन स्थानीय स्व-सहायता समूह व स्थानीय उत्पादकों द्वारा किया जा रहा है। सभी स्टेशनों के यात्री इस उत्पाद के बारे में जान रहे हैं। स्टाल में मौजूद संचालक व कर्मचारी यात्रियों को उत्पादक व उत्पादन से जुड़ी अहम जानकारियां भी उपलब्ध कराते हैं। यह पहली बार है जब प्रदर्शनी के साथ- साथ सामानों की बिक्री भी हो रही है। रेलवे का मानना है कि इस योजना से स्थानीय लघुकार, कारीगर, हस्तशिल्पों की आत्मनिर्भरता में वृद्धि होगी और स्थानीय उत्पादों को पहचान भी मिल रही है। इच्छुक व्यक्ति अथवा उत्पादक जो इस योजना के अंतर्गत अपने उत्पाद की बिक्री के लिए स्टाल का संचालन करना चाहते हैं वे संबंधित स्टेशन के स्टेशन प्रबंधक के पास आवेदन जमा कर सकते है। रेलवे का प्रयास है कि इस योजना का लाभ अधिक से अधिक कलाकारों को मिले।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close