बिलासपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ बिलासपुर जिले का आठ दिवसीय प्राथमिक शिक्षा वर्ग 22 से 30 दिसंबर तक आयोजित किया जाएगा। प्राथमिक शिक्षा वर्ग के लिए राजकिशोर नगर स्थित सरस्वती शिशु मंदिर का चयन किया गया है। आठ दिवसीय शिविर पूरी तरह आवासीय रहेगा। संघ शिक्षा वर्ग में आने वाले स्वंयसेवक प्रशिक्षण के बाद 30 दिसंबर की शाम छह बजे के बाद ही शिविर स्थल से निकलेंगे। शिविर स्थल से सीधे अपने घरों की ओर रवाना होंगे। 15 वर्ष के स्वयंसेवकों को उनके पालकों के आने के बाद या फिर शाखा शिक्षक की जिम्मेदारी में छोड़ा जाएगा। बिलासपुर जिला कार्यवाह ने प्राथमिक शिक्षा वर्ग के लिए जस्र्री दिशा निर्देश जारी कर दिया है।

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के रणनीतिकारों ने बाल स्वयंसेवकों के साथ ही तस्र्ण स्वयंसेवकों को प्रशिक्षित करने कार्यक्रम आयोजित करने की योजना बनाई है। बिलासपुर जिले में संघ का प्राथमिक शिक्षा वर्ग आयोजित करने की तैयारी पूरी कर ली गई है। इसके लिए तिथि के साथ ही प्रशिक्षण स्थल का भी चयन कर लिया गया है। खास बात ये कि आठ दिवसीय प्राथिमक शिक्षा वर्ग पूर तरह आवासीय रहेगा। आयु सीमा भी निर्धारित कर दी गई है। 15 से 40 वर्ष के स्वयंसेवक ही शामिल हो सकेंगे। इसकी जानकारी संघ के पदाधिकारियों के माध्यम से प्राथमिक शिक्षा वर्ग में आने वाले युवाओं व 15 वर्ष या इससे अधिक के बालकों के पिता या पालकों को इसकी जानकारी दे दी गई है। ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में सुबह और शाम के वक्त लगने वाली शाखा के मुख्य शिक्षकों को स्वयंसेवकों के साथ ही उनके पालकों से संपर्क करने और प्राथमिक शिक्षा वर्ग में बच्चों को भेजने े लिए सहमति बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

बिलासपुर जिला कार्यवाह गोवर्धन देवांगन के नाम से प्राथमिक शिक्षा वर्ग के आयोजन के संबंध में पत्रक भी छपाए गए हैं। इसका वितरण शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले संघ के पदाधिकारी,स्वयंसेवकों व संघ के नजदीकी संबंध रखने वालों के बीच किया जा रहा है। संघ के एक पदाधिकारी की माने तो संघ का फोकस ग्रामीण क्षेत्र की ओर ज्यादा है। ग्रामीण क्षेत्रों से संघ शिक्षा वर्ग में बड़ी संख्या में स्वयंसेवकों के शामिल होने का लक्ष्य रखा गया है। लक्ष्य की प्राप्ति के लिए पदाधिकारियों के साथ ही भाजपा के प्रमुख पदाधिकारियों को भी अहम जवाबदारी सौंपी गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में इनका संपर्क अभियान भी प्रारंभ हो गया है।

आवासीय शिक्षा वर्ग के लिए 200 स्र्पये शुल्क

प्राथमिक शिक्षा वर्ग में शामिल होनंे वाले स्वयंसेवकों को प्रशिक्षण शुल्क के रूप में 200 स्र्पये जमा करना होगा। इसके अलावा पूर्ण गणवेश में आना होगा। गणवेश में संघ का फूलपेंट,सफेद कमीज पूरी बांह की जिसमें बांयी ओर जेब हो,काली ऊनी टोपी,बेल्ट,काला जूता लेश वाला,दंड,मोजा,लंगोट लाना जस्र्री किया गया है। इसके अलावा भोजन व नाश्ते के लिए बर्तन भी लाना होगा। इसमें थाली,कटोरी,गिलास,ओढ़ने बिछाने के कपड़े,गरम कपड़े के अलावा मंजन,ब्रश,साबुन,तेल,शीशा,दाढ़ी बनाने का सामान,डायरी,पेन,सुई,धागा,कोई भी कलर का नेकर व हाफ पेंट।

इन चीजों का लाने की मनाही

प्रपत्र में कैमरा,मोबाइल,लैपटाप सहित कीमती वस्तुएं लाने की मनाही की गई है। शिक्षा वर्ग में इन सामानों को लाने की स्थित में इसकी जानकारी देनी होगी और सामानों को जमा कराना होगा। इसे अनिवार्य शर्त में शामिल किया गया है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close