बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

नया प्रयोग सफल होने के बाद सेक्शन व साइडिंग की जांच पहले से बेहतर और आसान हो गई है। कोरबा के बाद शनिवार को अनूपपुर- बिजुरी तक मालगाड़ी में सेलून जोड़कर निरीक्षण करने पहुंचे। उसलापुर रेलवे स्टेशन मालगाड़ी सुबह 6.30 बजे रवाना हुई।

ट्रेनों के बेहतर परिचालन, संरक्षा व लदान के लिए बिलासपुर रेल मंडल नए- नए प्रयोग करते रहता है। तीन दिन पहले एक नया प्रयोग किया गया। पहली बार मालगाड़ी में सेलून जोड़ा गया। पहले निरीक्षण के दौरान परिचालन विभाग के अधिकारी चिंतित भी थे। लेकिन सफलता मिलने के बाद अब धीरे- धीरे इसे अमल में लाने की शुरुआत कर दी गई है। इसी के तहत परिचालन विभाग के अधिकारियों ने कटनी रेल खंड की साइडिंग का निरीक्षण करने की योजना बनाई। उसलापुर में एक मालगाड़ी में सेलून जोड़ा गया। यह भी सफल रहा। गौरतलब है कि इस प्रयोग से भविष्य में कोचिंग ट्रेनों में सेलून जोड़ने की वजह विलंब होने की चिंता नहीं रहेगी। इसके अलावा विभिन्न सेक्शन, साइडिंग व स्टेशनों का आराम से कर सकते हैं। किसी तरह की हड़बड़ी नहीं रहेगी। मालूम हो कि अभी तक मालगाड़ी में सेलून चाहकर भी नहीं जुड़ पाता था। दरअसल मालगाड़ी में सीबीसी कपलिंग होती है जबकि सेलून में स्क्रू कपलिंग। कपलिंग का सिस्टम अलग-अलग होने के कारण दोनों को जोड़ने में दिक्कत आती थी। इसी तकनीकी दिक्कत को दूर करने के लिए रेलवे नया विकल्प ढूंढने का प्रयास किया। इसके तहत एक ऐसे वैगन को माडिफाई किया, जिसकी दोनों तरफ सीबीसी और स्क्रू कपलिंग दी गई। इसके कारण ही आसानी से सेलून मालगाड़ी में जुड़ा जाता है।

Posted By: Nai Dunia News Network