बिलासपुर। मौसम का तेवर बिल्कुल बदला हुआ है। न्यूनतम तापमान सात दिनों से 15 डिग्री सेल्सियस के भीतर है। गुरुवार रात में भी कड़ाके की ठंड पड़ी। शुष्क और ठंडी हवाओं ने लोगों को अलाव जलाने पर मजबूर कर दिया। न्यूनतम तापमान 13.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शुक्रवार सुबह धूप अच्छी लगने लगी।

न्यायधानी में अभी मौसम खुशनुमा बना हुआ है। रात में कड़ाके की ठंड तो सुबह वातावरण शुष्क बना हुआ है। गुनगुनी धूप सुहाने लगी है। पर्यटन स्थलों पर लोग ठंड का खूब लुत्फ उठा रहे हैं। वहीं, दिन का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस के भीतर है। मौसम वेधशाला के मौसम विज्ञानी डा. एचपी चंद्रा के मुताबिक प्रदेश में शुष्क और ठंडी हवा चल रही है। इसके कारण मौसम शुष्क बना हुआ है। न्यूनतम तापमान में विशेष परिवर्तन की संभावना कम है। तापमान में गिरावट आने की संभावना बनी हुई है।

बस्तर संभाग में अगले तीन दिनों तक पारा छह डिग्री सेल्सियस के आसपास गिरावट संभावित है। साफ है कि बिलासपुर में अभी ठंड बनी रहेगी। ठंड के कारण शरीर अब कंपकंपाने लगा है। स्थिति यह है कि अब शहर के प्रमुख चौक चौराहों में रात को अलाव जलने लगा है। नगर निगम की ओर से गोबर के कंडे भी उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके अलावा शहर में मांगलिक सीजन भी प्रारंभ है। शादी विवाह वाले भवनों में पार्टी के दौरान भी लोग अलाव का सहारा ले रहे हैं। ठंड बढ़ने के कारण गर्म कपड़ों की खरीदारी भी बढ़ गई है। इसके अलावा घरों में लोग अब गर्म पानी पीने लगे हैं।

स्कूली बच्चों की समस्या

ठंड बढ़ने के कारण सुबह सात बजे लगने वाले स्कूली बच्चों की समस्या बढ़ गई है। क्योंकि अधिकांश बच्चों को एक घंटे पहले उठना और तैयार होना पड़ता है। 30 से 40 मिनट पहले घर से निकलते हैं। इस दौरान उनका सामना ठंडी हवाओं से होता है। जिस ओर प्रशासन का बिल्कुल भी ध्यान नहीं है। वहीं अभिभावक संघ ने ठंड को देखते हुए स्कूली बच्चों के समय में वृद्धि करने मांग किया है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close