बिलासपुर। Bilaspur News: केंवची के बाद अचानकमार टाइगर रिजर्व अंतर्गत शिवतराई बैरियर को हाईटेक करने का काम शुरू हो गया है। इसके लिए सबसे पहले कक्ष का निर्माण किया जा रहा है। इसके बनते-बनते टोल प्लाजा की तरह कैमरे व आटोमेटिक बैरियर लगाने का काम भी पूरा हो जाएगा। इस व्यवस्था के बाद टाइगर रिजर्व से गुजरने वाली प्रत्येक गाड़ियों का रिकार्ड प्रबंधन के पास रहेगा।

अचानकमार टाइगर रिजर्व अमरकंटक मार्ग पर स्थित है। इसके बीच से सड़क निकली है। इसके चलते 24 घंटे गाड़ियों की आवाजाही रहती है। संवेदनशील क्षेत्र होने के कारण इन गाड़ियों का रिकार्ड भी रखना पड़ता है। बीच रास्ते में बेवजह गाड़ियां न स्र्कें। इसके लिए पर्ची सिस्टम भी लागू की गई है। इसके तहत एक निर्धारित समय पर गाड़ी को टाइगर रिजर्व की सीमा से बाहर निकलनी जरूरी है। प्रत्येक बैरियर में चार से पांच कर्मचारी तैनात रहते हैं। जो इस व्यवस्था को संभालते हैं।

केंवची को छोड़कर अन्य सभी बैरियरों में यह काम मैनुवल हो रहा है। इसके चलते बैरियर पार करने में गाड़ियों का समय लगता है। इसे देखते हुए ही हाईटेक करने की योजना बनाई गई है। केंवची व शिवतराई टाइगर रिजर्व के दोनों छोर के बैरियर है। इसलिए पहले इन्हें हाईटेक किया जा रहा है। केंवची तो हाईटेक हो चुका है। अब शिवतराई में काम शुरू हुआ है। अभी वहां एक कक्ष बनाया जा रहा है।

जहां कम्प्यूटराइज्ड पर्ची निकलेगी। हाईटेक बैरियर बनाने के लिए पर्ची सिस्टम के तहत टाइगर रिजर्व के पहले व आखिरी बैरियर यानी शिवतराई व केंवची में एक पर्ची दी जाती है। जिसमें वाहन का नंबर, चालक का नाम आदि लिखा होता है। इस पर्ची में संबंधित वाहन को कितने समय में बाहर निकलना है यह दर्ज रहेगा। सबसे पहले कैमरे लगाए जाएंगे। गुजरने वाले वाहनों के नंबर कैमरे में कैद हो जाएंगे। अन्य बैरियरों को भी हाईटेक किया जाएगा। पर इसमें कुछ वक्त लगेगा। अभी इसके लिए प्रस्ताव भेजेंगे।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local