बिलासपुर। डा. सीवी रामन विश्वविद्यालय में 28 व 29 जनवरी को द अनसियंट इंडियन नालेज सिस्टम फार होलिस्टिक डेवलपमेंट विषय पर दो दिवसीय इंरटनेशनल वर्चुअल संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। यह संगोष्ठी 12 विभागों द्वारा एक साथ आयोजित किया जाएगी। इसमें कि 12 देशों के साथ भारत के 35 विश्वविद्यालयों के अतिथि वक्ता शाामिल होंगे। संपूर्ण विकास के संदर्भ में प्राचीन भारतीय ज्ञान पंरपरा विषय पर दो दिनों तक विद्वानों द्वारा विचार मंथन किया जाएगा एवं शोाध पत्र पढ़े जाएंगे। संगोष्ठी सभी विभाग एवं र्आक्यूएसी द्वारा आयोजित की जा रही है।

कुलपति प्रो. रवि प्रकाश दुबे ने बताया कि प्राचीन भारतीय ज्ञान परंपरा में विश्व के समस्त विषयों का पूर्ण ज्ञान समाहित हैं एवं समस्या का निदान भी है। यह ज्ञान भारत के मनीषियों ने सदियों पहले ही दुनिया को वेदों के माध्यम से लिखित रूप में दिया है। इसे समझने दुनिया भर में हर स्तर में रिसर्च हो रहे हैं। संगोष्ठी में प्राचीन भारतीय ज्ञान परंपरा के विषय में शोध,अनुसंधान,दिशाएं सहित कई विषयों में देश- दुनिया के विशेषज्ञ चर्चा करेंगे।

उन्होंने बताया कि मुख्य रूप से फिजिक्स, केमेस्ट्री, लाइफ साइंस, इंजीनिंयरिंग के सभी विभाग, ग्रामीण प्रोद्योगिकी, मैनजमेंट, कामर्स, इंग्लिश सहित अन्य विभाग शाामिल हैं। इसमें कि 12 देशों के विश्वविद्यालय, सीवीआरयू के 12 विभाग शाामिल हो रहे हैं। यह आयोजन यूट्यूब पर लाइव प्रसारित होगा। संगोष्ठी का जो निष्कर्ष निकलेगा, वह बहुत ही महत्वपूर्ण होगा। विश्वविद्यालय इस निष्कर्ष को उच्च शिक्षा में सामहित करेगा और जनहित के लिए आमजन तक प्रकाशित व प्रसारित करेगा।

इन देशों के विश्वविद्यालयों के अतिथि वक्ता होंगे शामिल

इस संगोष्ठी में म्यांमार के इंस्टीट्यूट आफ इफरमेंशन टेक्नालाजी, ईरान से मिशाद विश्वविद्यालय, जापान के तोकुशुमा विश्वविद्यालय, रशिया का साउथ उराल विश्वविद्यालय, दुबई का युनाईटेड अरब एमिरेंट, मलेशिया का कट्रिन विश्वविद्यालय, यूएसए का मिशिगन विश्वविद्यालय, ओमान का इंटरनेद्यानल एडूबिय लर्निंग, डेनमार्क का आरहस विश्वविद्यालय, कनाडा का क्यूबेक विश्वविद्यालय, साउदी अरब का काउ विश्वविद्यालय और इजिप्ट का सू इंजीनियरिंग महाविद्यालय से वक्ता शामिल होंगे।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local