बिलासपुर। अनुसूचित जनजाति वर्ग के पढ़े लिखे युवाओं के लिए यह अच्छी खबर हो सकती है। केंद्र सरकार ने स्वरोजगार योजना के तहत इस वर्ग के युवा व युवतियों को स्वरोजगार से जोड़ने के अलावा उद्यमी बनाने बैंक से लोन दे रही है। राष्ट्रीय निगम की अनुसूचित जनजाति वर्ग हेतु पैसेंजर ह्वीकल योजना, स्माल बिजनेस योजना, टर्म लोन योजना, स्व सहायता समूह (माइक्रो क्रेडिट) योजना एवं महिला सशक्तिकरण योजनांतर्गत वित्तीय वर्ष 2022-23 हेतु बिलासपुर जिले को निगम मुख्यालय रायपुर से टारगेट दिया गया है। टारगेट पूरा करने के लिए विभाग ने अब सर्वे शुरू कर दिया है। विभाग ने ऐसे युवाओं से आवेदन भी मंगाया है।

आवेदक अनुसूचित जनजाति वर्ग का हो, बिलासपुर जिले का निवासी हो। आवेदक की आयु 18 वर्ष से कम एवं 50 वर्ष से अधिक न हो। आय प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र सक्षम अधिकारी से जारी किया गया हो। आय प्रमाण पत्र ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में तीन लाख स्र्पये से अधिक न हो। आयु-जन्मतिथि संबंधी स्कूल का प्रमाण पत्र, अंकसूची, शपथ पत्र अनिवार्य है। आधार कार्ड, राशन कार्ड, मतदाता परिचय पत्र, बैंक पासबुक की छायाप्रति एवं पूर्व से किसी शासकीय योजना में ऋण अनुदान प्राप्त न किया हो तथा ऋण बकाया न हो संबंधी शपथ पत्र, वाहन की योजना में वैध कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस एवं पासपोर्ट साइज के दो फोटोग्राफ्स अनिवार्य है। आवेदन जमा करने के लिए 10 जून की तिथि तय की गई है।

महिला समूहों को किया गया कृषि यंत्रों का वितरण

विकासखंड बिल्हा के शासकीय उद्यान रोपणी सरकंडा में महिला स्व सहायता समूहों को स्वावलंबी बनाने के लिए कृषि यंत्रों का वितरण किया गया। खनन प्रभावित गोठान ग्रामों में कार्यरत इन महिलाओं को जिला खनिज न्यास निधि मद से 22 नग रोटरी पावर ट्रिलर एवं 22 नग पल्वराइजर मशीन दिया गया है। आत्मनिर्भरता की दिशा में इसे बड़ा कदम माना जा रहा है। महिलाएं अब खेती किसानी के काम में भी आगे आने लगी है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close