बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

सोमवार को जयरामनगर रेलवे स्टेशन में अस्थाई व्यवस्था के तहत राजेंद्रनगर- दुर्ग साउथ बिहार एक्सप्रेस को रुकना था। बुकिंग से यात्रियों को टिकट भी जारी किए थे। टिकट लेकर यात्री स्टेशन में खड़े रहे और ट्रेन उनके सामने से गुजर गई। इससे परेशान यात्रियों ने स्टेशन में जमकर हंगामा मचाया। इतना ही नहीं पहले बुकिंग क्लर्क और उसके बाद स्टेशन मास्टर का घेराव कर दिया। मामले में स्टेशन मास्टर को सस्पेंड कर दिया गया है।

मामला सोमवार का है। बेलपहार की तरफ यार्ड रिमाडलिंग व रखरखाव का कार्य चल रहा है। इसके चलते कुछ लोकल व पैसेंजर ट्रेनें रद हैं। यात्रियों की डिमांड पर रेल प्रशासन ने 13288 साउथ बिहार एक्सप्रेस बाराद्वार, नैला समेत जयरामनगर रेलवे स्टेशन में अस्थाई ठहराव देने का निर्णय लिया है। यह व्यवस्था तीन दिसंबर से लागू है। स्टापेज के कारण इन स्टेशनों में यात्रियों को ट्रेन का टिकट भी दिया जा रहा है। इसी के तहत सोमवार को बिलासपुर की तरफ आने वाले यात्री जयरामनगर रेलवे स्टेशन पहुंचे और बिलासपुर समेत अन्य स्टेशनों का टिकट लिया। लगभग 20 से 25 की संख्या में यात्री मौजूद थे और टिकट लेने के बाद सभी ट्रेन पहुंचने का इंतजार कर रहे थे। इसी बीच ट्रेन धड़धड़ाते हुए पहुंची और बिना स्टेशन में रुके गुजर गई। जिस ट्रेन से यात्रियों को जाना था उसकी केवल झलक नजर आई। कुछ पल के लिए यात्री समझ नहीं पाए। कुछ यात्री ऐसे भी थे जो आपस में चर्चा करते हुए यह कहने लगे कि यह दूसरी ट्रेन है। साउथ बिहार एक्सप्रेस अभी नहीं आई है। हालांकि कुछ यात्रियों ने साउथ बिहार एक्सप्रेस देख लिया था। इसके बाद यात्रियों में हड़कंप मच गया। सभी बुकिंग क्लर्क के पास पहुंचे। यात्री बेहद गुस्से में क्लर्क पर भड़ास निकाल रहे थे। इस पर बुकिंग क्लर्क ने समझाया गया कि ट्रेन परिचालन उसकी जिम्मेदारी नहीं है। ट्रेन कैसे नहीं रुकी यह स्टेशन मास्टर ही बता पाएंगे। इसके बाद यात्री स्टेशन मास्टर के पास पहुंचकर हंगामा करने लगे। उनका घेराव कर ट्रेन नहीं रुकने का जवाब मांगने लगे। काफी समझाने और तकनीकी समस्या बताया तब जाकर यात्रियों को गुस्सा शांत हुआ। इधर बात रेल प्रशासन तक पहुंची तो उन्होंने इस मामले स्टेशन मास्टर एके अग्ने की लापरवाही मानकर सीधे सस्पेंड की कार्रवाई कर दी। इस मामले को लेकर रेलवे में हड़कंप मचा रहा।

नहीं दिया रिफंड

चूंकि रेलवे से गलती हुई थी। इसलिए सारे यात्रियों को टिकट की राशि रिफंड होनी चाहिए थी। लेकिन बुकिंग क्लर्क ने ऐसा नहीं किया और न प्रशासन ने इस पर अब तक निर्णय लिया है। इससे यात्रियों को दोहरा झटका लगा। यात्री खाली हाथ मायूस होकर लौट गए।

ये हो सकती है वजह

जानकारों की माने तो इस मामले की वजह दूरंतो एक्सप्रेस हो सकती है। दरअसल उस दिन सामने आग जैसा कुछ देखकर जयरामनगर रेलवे स्टेशन में ही दूरंतो एक्सप्रेस को रोक दिया गया था। यह बेहद महत्वपूर्ण ट्रेन है। इसके एक- एक मिनट के परिचालन का हिसाब देना पड़ता है। जिस स्टेशन में बिना कारण रुकती है उसका स्टेशन मास्टर वैसे भी सकते में रहता है। माना जा रहा है कि इसी ट्रेन के रुकने की घबराहट में स्टेशन मास्टर से इतनी बड़ी चूक हुई है। बताते कि दूरंतो के चालक ने जिसे आग समझकर ट्रेन रोकी थी। दरअसल वह पटरी पर हो रही वेल्डिंग कार्य से निकलने वाली चिंगारी थी।

यात्रियों की सुविधा के लिए अभी जयरामनगर रेलवे स्टेशन में साउथ बिहार एक्सप्रेस का अस्थाई ठहराव दिया गया है। सोमवार को यह ट्रेन स्टेशन में नहीं रुकी। कुछ यात्रियों ने इसका टिकट लिया था। इस लापरवाही के लिए स्टेशन मास्टर को सस्पेंड किया गया है।

पुलकित सिंघल

सीनियर डीसीएम, बिलासपुर रेल मंडल

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket