बिलासपुर। शहर में एक के बाद एक बीमारियां पैर पसार रही हैं। अब डेंगू को लेकर शहरी क्षेत्र संवदेनशील हो चुका है। जिले में अभी तक इसके 13 मरीज मिल चुके हैं। इसमें से एक बच्चे की मौत भी हो चुकी है। वहीं, अब मच्छरजनित इन बीमारियों को लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया है। साफ चेतावनी दी गई है कि जून से अक्टूबर तक इन बीमारियों के लिए बेहद सवेदनशील है। वहीं, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने डेंगू के लिए संवेदनशील क्षेत्र में सर्वे भी शुरू कर दिया है।

ऋतु के मौसम में जलजनित बीमारियों के साथ ही मच्छरों का प्रकोप बढ़ जाता है। वर्षा ऋतु की वजह से जगह जगह जलभराव हो जाता है। साथ ही अस्थाई डबरा बन जाते हैं। जहां पर ही मच्छर के लार्वा पनपते हैं और ये ही डेंगू, मलेरिया और फाइलेरिया जैसी बीमारियों की वजह बनते हैं। इन बीमारियों को लेकर अलर्ट जारी करते हुए नियंत्रण कार्य शुरू कर दिया गया है। इसके तहत एंटी लार्वा व दवा का छिड़काव के साथ मेडिकेटेड मच्छरदानी का वितरण किया जा रहा है। साथ ही अब सर्वे करने का निर्णय लिया गया है। इसके माध्यम से खासतौर पर डेंगू के मरीज खोजने की कवायद है। स्वास्थ्य विभाग ने टीम के सदस्यों को साफ किया है कि शहरी क्षेत्र के हर स्लम एरिया में सर्वे किया जाए और घर-घर पहुंचकर लोगों की जांच की जाए। इस दौरान यदि किसी के बीमार होने की आशंका रहती है तो तत्काल उसकी जांच कराने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं।

चकरभाठा क्षेत्र में हो चुका है सर्वे

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अपना सर्वे कार्य चकरभाठा क्षेत्र से चालू किया है। मालूम हो कि दो दिन पहले ही इस क्षेत्र में एक 10 वर्षीय बच्चे की डेंगू से मौत हो गई थी। इसके बाद टीम ने पूरे क्षेत्र में सर्वे किया है। हालांकि इस क्षेत्र में मरीज नहीं मिला है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close