बिलासपुर। बारिश में अभी एक महिना शेष है, लेकिन निगम अमला इससे निपटने के लिए अभी से जूट गया है। इसके पहले कड़ी में शहर के 85 नालों का सफाई कार्य किया जा रहा है। अभी तक 69 नालों की सफाई की जा चुकी है। वही अब बचे प्रमुख नालों की सफाई में सफाई कर्मियों के पसीने छूट रहे है, क्योंकि इतना अधिक कचरा निकल रहा है कि उसे पूरी सड़के जाम हो जा रही है। साफ है कि सालों से इन नालों की सफाई नहीं की गई थी, वही अब इनका सफाई करना भी एक बड़ी समस्या बनकर सामने आया है।

बारिश का मौसम आते ही शहर भर में जलभराव की समस्या होने लगती है। ड्रेनेज सिस्टम सही नहीं होने से सड़कों पर घंटों पानी का जमाव रहता है। इसके अलावा शहर के कई मोहल्ले ऐसे है जहां पानी निकासी की व्यवस्था नहीं होने से कई-कई दिनों तक जलभराव की स्थिति बनी रहती है। आलम यह रहता है कि लोग इसकी वजह से घर से निकल भी नहीं पाते है। लेकिन इस बार इस तरह की स्थिति न बने, निगम पहले से ही तैयार कर रहा है।

निगम सभी नालों की तह तक सफाई कर रहा है ताकि बारिश के दौरान पानी की निकासी इन नालों के माध्यम से हो जाए और पानी ओवरफ्लो होकर सड़कों व मोहल्लों में न भरे। लेकिन इन नालों की सफाई करने में निगम के सफाई कर्मियों को पसीने छूट रहे है। क्योंकि नालों से इतना अधिक कचरा व मलबा निकल रहा है कि कर्मचारी व अधिकारी हैरान हो गए है। इन कचरों से कई सड़के भर गई है।

हालत यह है कि कचरों की वजह से लोगों का चलना दूभर हो गया है। नालों के सफाई का अंतिम चरण चल रहा है। ऐसे में शहर की प्रमुख नालों की सफाई की जा रही है। सफाई कर्मचारियों के मुताबिक बचे हुए 15 नाले बड़े और चौड़े है, इनके अंदर से कचरा निकालना आसान कम नहीं है, क्योंकि यह लगातार कचरा उगलता ही जा रहा है। इन नालों की पूरी तरह से सफाई में लंबा समय लगेगा। जिसने अधिकारियों की दुविधा बढ़ा दी है, यदि आने वाले कुछ दिनों में बारिश हो गया तो तमाम काम धरे के धरे रह जाएंगे।

रोजाना निकल रहा 500 से 700 क्विंटल कचरा

सफाई के दौरान रोजाना 500 से 700 क्विंटल कचरा रहा है। इस कचरे का तत्काल निपटान भी करना मुश्किल हो रहा है। हालाकि यदि निगम के प्लानिंग के अनुसार सभी नालों की समय के पहले सफाई हो गई तो बारिश के दिनों में इसका फायदा जस्र्र मिलेगा।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close