बिलासपुर। Bilaspur News: पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर प्रदेशभर के शिक्षक और कर्मचारी एक नवंबर को काला दिवस मनाएंगे। बाइक रैली निकालकर एनपीएस का विरोध जताएंगे। राष्ट्रीय स्तर पर इसे लेकर रणनीति बन चुकी है।

राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा छत्तीसगढ़ के प्रदेश संयोजक संजय शर्मा ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा छत्तीसगढ़ के प्रदेश संयोजको की महत्वपूर्ण वर्चुअल बैठक में विरोध प्रदर्शन को लेकर निर्णय लिया गया है।

एक नवंबर को जिला मुख्यालय में बाईक रैली के सम्बंध में रणनीतिक चर्चा किया गया। बैठक में सभी प्रदेश संयोजक शामिल हुए। विशेष रूप से राष्ट्रीय अध्यक्ष बीपी सिंह रावत ने अपने विचार रखते हुए बाइक रैली को सफल बनाने का आह्वान किया। सभी प्रदेश संयोजको ने बाइक रैली के आयोजन पर सहमति व्यक्त करते हुए अपने अपने संघ के जिलाध्यक्ष/जिला संयोजक को समन्वय बनाकर कार्यक्रम को सफल बनाने अपील करने की बात की गई।

छत्तीसगढ़ में एक नवंबर को ही राज्योत्सव है तथा एक नवंबर को ही छत्तीसगढ़ में काला कानून एनपीएस लागू किया गया था, अतः इस दिन दोपहर 12 बजे से एक बजे तक सभी जिला कलेक्ट्रेट के पास एकत्रित होकर पहले छत्तीसगढ़ राजगीत "अरपा पैरी के धार" का सामूहिक रूप से गायन पश्चात पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर बाइक रैली प्रारंभ किया जाएगा। इस दौरान बैनर, झंडा, स्लोगन के साथ सभी जिले में मुख्य मार्ग में रैली निकलेगी, छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी ने जनघोषणा पत्र में एनपीएस के स्थान पर ओपीएस लागू करने का वादा किया है, जिसे अब तक पूरा नहीं किया गया है।

वर्चुअल बैठक में वीरेंद्र दुबे, लैलूंन भारद्वाज, रोहित तिवारी, तुलसी साहू, निर्मल साहू , डा.रवि बंजारे, एसपी देवांगन, बीबी जायसवाल, रोहित तिवारी के प्रतिनिधि सुनील यादव, राष्ट्रीय आईटी सेल प्रभारी बसंत चतुर्वेदी, राजेश शर्मा शामिल हुए।

Posted By: sandeep.yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local