बिलासपुर। बिल्हा विकासखंड क्षेत्र के दस मजदूर को आंध्रप्रदेश में बंधक बना लिया गया है। सभी मजदूर वहां कमाने खाने के लिए गए थे। अब वहां के ठेकेदार मजदूरों को घर जाने नहीं दे रहा है। इससे परेशान होकर स्वजन गुस्र्वार को आइजी कार्यालय पहुंचे और बंधक बनाए गए मजदूरों को मुक्त कराने के लिए आइजी रतनलाल डांगी से गुहार लगाई है। आइजी डांगी ने मामले की जांच कर उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

बिल्हा क्षेत्र की ग्राम पंचायत सेवार के रहने वाली सरस्वती मेर्सा ने बताया कि सुनील मेश्रा समेत दस मजदूरों को सुधाकर सिंह सीनू सेठ, क्षिरी निषा द्वारा आंध्रप्रदेश के जिला राज मंडली के ग्राम चौपेला थाना अलमुडु ले जाया गया है। वहां नौ माह से सभी मजदूरी कर रहे हैं। अब सभी मजदूर घर लौटना चाहते हैं, लेकिन ठेकेदार द्वारा बंधक बना लिया गया है। उन्हें घर नहीं भेजा जा रहा है। इससे सभी मजदूर परेशान हैं। ठेकेदार फोन भी नहीं उठा रहा है। इससे परिवार के सदस्यों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आंध्रप्रदेश में स्वजन किस हालत में होंगे।

आइजी कार्यालय के अफसरों का कहना है कि इससे पहले भी महिला शिकायत करने आई थी। आइजी कार्यालय से श्रम विभाग को पत्रचार किया गया है। आंध्रप्रदेश सरकार से संपर्क करने के लिए कहा गया। ताकि सभी मजदूर सुरक्षित अपने घर लौट सके। हालांकि स्वजनों के नहीं लौटने के कारण महिला परेशान हो रही है। बार-बार सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगा रही है। ठेकेदार द्वारा वेतन भी नहीं दिया जा रहा है। इससे परिवार के सदस्यों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है।

महिला ने बताया कि जागृति कुमारी, रिया कुमारी, सिकंदर मर्सा,भोला बंजारे, मंजू बंजारे, आरूशी कुमारी, रिषभ बंजारे, आरोही बंजारे, चंद्रदास महिलांगे, योगेश महिलांगे को बंधक बनाया गया है। स्वजन ने सभी मजदूरों को वापस लाने के लिए अधिकारियों से गुहार लगा रहे हैं।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close